Recent Posts

‘न्यू थियेटर्स’ की कहानी ‘फ़ीनिक्स पक्षी’ से मेल खाती है

कल कुंदनलाल सहगल की पुण्यतिथि थी. इस मौके पर उनको एक नई पहचान देने वाले न्यू थियेटर्स पर एक दिलचस्प लेख लिखा है दिलनवाज़ ने- जानकी पुल. ————————————————— बिरेन्द्र नाथ  सरकार द्वारा स्थापित ‘ न्यु थियेटर्स’  की  कहानी ग्रीक अख्यानो के ‘फ़ीनिक्स पक्षी’ से मेल खाती है| फ़ीनिक्स के बारे …

Read More »

‘जानकी पुल’ एक कहानी है

अपने-पराये सब पूछते हैं कि ब्लॉग का नाम जानकी पुल क्यों? इस नामकरण के पीछे मेरी अपनी यही कहानी है. कहानी में पुल नहीं बन पाया, इसलिए यहां आभासी दुनिया में पुल बनाने की कोशिश है यह- प्रभात रंजन. —————————–       ऐसा लगा जैसे कोई भूली कहानी याद आ गई …

Read More »

कौमें नाश्ते की मे़ज पर नहीं पैदा हुआ करतीं

प्रसिद्ध पत्रकार, इतिहासकार एम. जे. अकबर ने अंग्रेजी में एक पुस्तक लिखी थी- Tinderbox. उसका हिंदी अनुवाद हार्पर कॉलिंस से आया है ‘चिंगारी’ नाम से. पाकिस्तान के सन्दर्भ में लिखी गई यह पुस्तक एक तरह से भारतीय उप-महाद्वीप में इस्लामिक राजनीति का इतिहास है. बेहद रोचक अंदाज में, गहरी सूझबूझ …

Read More »