Recent Posts

मैं दीवार के साथ खड़ा नहीं हो सकता

हारुकी मुराकामी प्रमुख समकालीन उत्तर-आधुनिक उपन्यासकारों में गिने जाते हैं. वाइल्ड शिप चेज़, काफ्का ऑन द शोर जैसे चर्चित उपन्यासों के इस जापानी लेखक के एक भाषण का अनुवाद प्रसिद्ध लेखक-पत्रकार प्रियदर्शन ने किया है. एक ज़माने में सलमान रुश्दी के प्रसिद्ध उपन्यास मिडनाइट्स चिल्ड्रेन के अनुवाद से चर्चा में …

Read More »

वी एन राय और रवीन्द्र कालिया को बर्ख़ास्त किया जाये

जल्दी ही राष्ट्रपति महोदया से समय लेने का प्रयास किया जा रहा है. मुख्यतः लेखिकाओं का एक प्रतिनिधिमंडल उनसे मिलकर लेखक समाज की व्यथा रखेगा और हम लेखकों की ओर से ज्ञापन उनको सौंपेगा. आप लोगों ने जिस तरह से सहयोग दिया है उसके लिए हम आभार व्यक्त करते हैं. …

Read More »

हिंदी अनुवाद में अमिताव घोष का उपन्यास ‘सी ऑफ पॉपीज़’

हिंदी में अमिताव घोष का सी ऑफ पॉपीज़ अफीम सागर के नाम से प्रकाशित हुआ है. ध्यान रहे कि इस उपन्यास की कथा का क्षेत्र पूर्वी भारत है. कहानी उस दौर की है जब वहाँ से लोगों को गिरमिटिया बनाकर मॉरिसस और कैरेबियाई देशों में भेजा जा रहा था. हिंदी …

Read More »