Recent Posts

कमलेश की कविताएं

हाल के दिनों में आभासी दुनिया में सबसे लम्बी बहस जो चली वह कवि कमलेश के उस बातचीत को लेकर चली जो ‘समास’ पत्रिका में प्रकाशित हुई थी. उसी बातचीत के आधार पर उनको साहित्य में दाखिल-ख़ारिज किया जाता रहा, लेकिन उनकी कविताओं को लेकर कोई बहस नहीं हुई. मुझे …

Read More »

बिहार की राजनीतिक लड़ाई और कहानी ‘दो बांके’

बिहार में जेडीयू और भाजपा के झगडे को देखते देखते भगवती चरण वर्मा की कहानी ‘दो बांके’ याद आ गई. आप भी पढ़िए- जानकी पुल. ====== शायद ही कोई ऐसा अभागा हो जिसने लखनऊ का नाम न सुना हो और युक्त प्रान्त में ही नहीं, बल्कि सारे हिन्दुस्तान में, और …

Read More »

दशरथ माझी के जीवन पर आधारित उपन्यास का अंश

 पिछले दिनों एक खबर आई कि एक प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक ने दशरथ माझी के जीवन पर आधारित फिल्म बनाई है. दशरथ माझी सचमुच एक यादगार चरित्र है, जिसने पहाड़ का सीना चीरकर रास्ता बना दिया था. फिल्म के बारे में पढ़ा ही था कि वरिष्ठ कवि-लेखक निलय उपाध्याय ने दशरथ …

Read More »