Home / Tag Archives: उषाकिरण खान

Tag Archives: उषाकिरण खान

कहाँ फँस गए कमालुद्दीन मियाँ?

उषाकिरण खान हिंदी की वरिष्ठ लेखिका हैं और उनके लेखन में बहुत विविधता रही है। उनकी ताजा कहानी पढ़िए। यह कहानी उन्होंने ख़ुद टाइप करके भेजी है- मॉडरेटर ================================ कहाँ फँस गये कमालुद्दीन मियाँ कमाल ही कहे जाते हैं। वे क़ुतुब मियाँ के इकलौते चश्मेचिराग थे। चार खूबसूरत बेटियों के …

Read More »

उषाकिरण खान की कहानी ‘मुझे ले चलो: भूखी हॅूं’

आज वरिष्ठ लेखिका उषाकिरण खान की कहानी. उषाकिरण जी का कथा संसार बहुत विस्तृत है, इतिहास से वर्तमान तक उनकी कलम से कुछ भी नहीं बचा है. वह लोक और शास्त्र दोनों की सिद्धहस्त लेखिका हैं- मॉडरेटर =================== बेहद नर्म सॉझ! कास के नर्म फूलों से आच्छादित खेत खलिहान। प्रेमियों …

Read More »

उषाकिरण खान की कहानी ‘बम महादेव’

हिन्दी और मैथिली की प्रख्यात लेखिका उषाकिरण खान बिहार की पहली महिला लेखिका हैं जिन्हें पद्मश्री का सम्मान मिला। वे बिहार के मिथिला क्षेत्र दरभंगा लहेरियासराय से संबंधित हैं। उनकी तकरीबन चालीस किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं। उनको “भामती” के लिए साहित्य अकादमी सम्मान मिल चुका है। उषाकिरणजी की यह कहानी “बम महादेव”  मैथिली से अनूदित …

Read More »

उषाकिरण खान की कहानी ‘कौस्तुभ स्तंभ’

उषाकिरण खान हिंदी की वरिष्ठ लेखिका हैं. मिथिला की मिटटी-पानी की गंध उनकी रचनाओं में खूब है. बिहार के बाढ़ के मौसम में उनकी यह कहानी याद आई- मॉडरेटर  ======================================        ‘माँ ….. ओ माँ …  तुम ठीक तो हो ना … कैसी हो ……? आवाज … ओ।‘        चीख-चीखकर बेटा …

Read More »

अमीर खुसरो पर नाटक लिखने की तैयारी में हूँ- उषाकिरण खान

वरिष्ठ लेखिका उषाकिरण खान हिंदी, मैथिली साहित्य की जानी पहचानी लेखिका हैं. उनके नए उपन्यास ‘अगनहिंडोला’ के बहाने पेश है सुशील कुमार भारद्वाजसे हुई उनकी कुछ बातें:- ————————————————————————————— आपका नया उपन्यास अगनहिंडोला आया है? अगनहिंडोला का क्या मतलब है? अगनहिंडोला ब्रजभाषा का एक शब्द है| जो दो शब्दों से बना है- …

Read More »