Breaking News
Home / Tag Archives: सीरज सक्सेना

Tag Archives: सीरज सक्सेना

सीरज सक्सेना की पुस्तक ‘कला की जगहें’ का अंश

सीरज सक्सेना उन गिने चुने कलाकारों में हैं जो नियमित रूप से लेखन भी करते हैं। दुनिया भर में कला के संदर्भ में यात्राएँ करने वाले सीरज की किताब आई है ‘कला की जगहें‘, जो रजा पुस्तकमाला के अंतर्गत संभावना प्रकाशन हापुड़ से प्रकाशित हुई है। उसी पुस्तक का एक …

Read More »

दो रंगों के बीच की रेखा, खजुराहो और सीरज सक्सेना का कला-कर्म

सीरज सक्सेना समकालीन चित्र कला, सिरेमिक आर्ट का जाना-पहचाना नाम है. अपने इस संस्मरणात्मक लेख में चित्रकार-लेखक राजेश्वर त्रिवेदी ने सीरज जी के कला-कर्म के आरंभिक प्रभावों को रेखांकित किया है. बेहद आत्मीय और जानकारी से भरपूर गद्य- मॉडरेटर ======================= अठारह साल के लंबे अंतराल में मैंने सीरज को लगभग …

Read More »

कलाकार का मन कवि-मन होता है

जाने-माने शिल्पकार-चित्रकार सीरज सक्सेना हिंदी के अच्छे, संवेदनशील लेखक भी हैं. उनके लेखों का संग्रह ‘आकाश एक ताल है’ वाग्देवी प्रकाशन से प्रकाशित हो रहा है. इसकी भूमिका प्रसिद्ध पत्रकार, लेखक ओम थानवी ने लिखी है. प्रस्तुत है ओमजी की भूमिका- मॉडरेटर ======================== कलाकार का मन कवि-मन होता है। कैनवस …

Read More »

एक कलाकार के शब्दों में सर्बिया का चित्र

चित्रकार, कलाकार सीरज सक्सेना बहुत आत्मीय गद्य लिखते हैं. यह उनकी सर्बिया यात्रा का वृत्तान्त है. पढियेगा- मॉडरेटर ========== कागज़ ,केनवस और कपड़े से बनी अपनी कलाकृतियों की दो एकल प्रदर्शनी के लिए सर्बिआ जाना सुखद तो है ही अति उत्साह इस बात का है कि अपनी कला को नए …

Read More »

जीवन और कला के अंतर्संबंधों की बेहतरीन किताब ‘सिमिट सिमिट जल’

कुछ किताबें ज्ञान बढाने के लिए होती हैं, कुछ मन को गुदगुदाने के लिए, कुछ गर्मी की छुट्टियों में पहाड़ों पर पेड़ के नीचे लेटकर पढने के लिए. गर्मी की छुट्टियाँ शुरू हो चुकी हैं. अगर आप इन छुट्टियों में कहीं जाने की योजना बना रहे हैं तो मेरा आग्रह …

Read More »

सीरज सक्सेना की कविताएं

सीरज सक्सेना जाने माने युवा चित्रकार हैं, सिरैमिक के कलाकार हैं। हमें हाल में ही पता चला वे कविताएं भी लिखते हैं। उनकी कुछ कविताएं आज खास आपके लिए- मॉडरेटर  ========================================= शून्य का श्रंगार -1 –  चुप है  रेल की पटरियाँ  एक दूसरे के बेहद पास  देह की गंध  बांधे …

Read More »