Home / Tag Archives: divya prakash dubey

Tag Archives: divya prakash dubey

दिव्य प्रकाश दुबे की आनेवाली किताब ‘अक्टूबर जंक्शन’ के कुछ अंश

दिव्य प्रकाश दुबे ‘नई वाली हिंदी’ के सबसे पुराने लेखक हैं. उनका नया उपन्यास आ रहा है ‘अक्टूबर जंक्शन’. उसके कुछ चुनिन्दा अंश पढ़िए- मॉडरेटर ==================================  किताब के बारे में- चित्रा और सुदीप सच और सपने के बीच की छोटी-सी खाली जगह में ‍10 अक्टूबर 2010 को मिले और अगले 10 …

Read More »

ऑक्सफ़ोर्ड बुक स्टोर में ‘हिंदी साहित्य उत्सव’

पिछले साल ऑक्सफ़ोर्ड बुक स्टोर ने ‘हिंदी साहित्य उत्सव’ की शुरुआत की थी. इस बार भी हुआ. आज ही जब दिन भर लोग योगी दित्यनाथ को लेकर बहसों में उलझे हुए थे ऑक्सफ़ोर्ड बुक स्टोर में ‘हिंदी साहित्य उत्सव’ चल रहा था. पिछले साल इस आयोजन में  पार्टनर वाणी प्रकाशन …

Read More »

दिव्य प्रकाश दुबे के उपन्यास ‘मुसाफिर कैफे’ का अंश

युवा लेखक दिव्य प्रकाश दुबे का उपन्यास आने वाला है- मुसाफिर कैफे. इस प्रयोगधर्मी लेखक के उपन्यास का एक अंश लेखक के अपने वक्तव्य के साथ- मॉडरेटर  ==================================== मुसाफ़िरCafe को पढ़ने से पहले बस एक बात जान लेना जरूरी है कि इस कहानी के कुछ किरदारों के नाम धर्मवीर भारती …

Read More »

सिनेमा, प्राउड फंडिंग और ‘बेयरफुट टू गोवा’

सबसे पहले मेरी क्रिसमस. उसके बाद यह पोस्ट. जो लिखी है ‘मसाला चाय’ के लेखक दिव्य प्रकाश दुबे ने. एक बात है मुझे तो आइडिया जोरदार लगा. आप भी पढ़कर देखिये कि कैसे प्राउड फंडिंग से सिनेमा बन सकता है और हम आप उसका हिस्सा भी बन सकते हैं- प्रभात …

Read More »

हिंदी इज़ कूल यार !

हिंदी लेखकों की दुनिया तेजी से बदल रही है. अलग-अलग क्षेत्रों, माध्यमों से जुड़े लोग हिंदी में लिख रहे हैं, अच्छा लिख रहे हैं. ऐसे ही एक युवा लेखक हैं दिव्य प्रकाश दुबे. इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट की पृष्ठभूमि के इस लेखक की जमीन अपनी भाषा, अपने समाज में गहरी है. …

Read More »

हिन्दी का लेखक हिन्दी के पाठक के अलावा सबके लिए लिखता है

दिव्य प्रकाश दूबे ने हिंदी दिवस के बहाने हिंदी को लेकर कुछ विचारोत्तेजक बातें लिखी हैं, जो कमोबेश हिंदी समाज की चिंता हैं. एक सच्चे लेखक की चिंता. बहसतलब बातें हैं, जिनके ऊपर हम हिन्दीवालों को कभी न कभी जरूर सोचना चाहिए- मॉडरेटर. ===========  लेख थोड़ा लम्बा हो गया है लेकिन …

Read More »