Home / कविताएं / इरा टाक की कविताएं

इरा टाक की कविताएं


इरा टाक आजकल अपनी शॉर्ट फिल्म के कारण चर्चा में हैं. बहुत अच्छी पेंटर हैं. लेकिन वह मूलतः कवयित्री हैं. आज उनकी कुछ कवितायेँ- मॉडरेटर 

“मैं” और “हम”
वजन एक है
पर अंतर मीलों का है न
मेरे प्रिय !
आजकल सपने बुना करती हूँ
जैसे माँ कभी स्वेटर बुनती थी
पर मेरी गति तेज़ है
या यूँ कह लो कि बस एक यही काम है
ढेर लगा दिया है इंद्रधनुषी सपनों का
देखो न…
मेरे प्रिय !
एक कविता
कहीं गुम हो गयी
संभाल न सके
तुम
मेरे प्रिय !
मैं पहाड़ी नदी सी चंचल
तुम गहरी झील से शांत
मैं हवाओं की तरह उन्मुक्त
तुम बादलों से भरे हुए
लेकिन बह जाते हो
मेरे प्रेम में
प्रबल है न वेग…
मेरे प्रिय !
रोज़ एल नया रंग मिलता है
मुझे तुम में
कितने निश्छल सरल हो तुम
मन करता है तुम्हे
अपने रंगों में उतार लूँ
और ढल जाऊँ
तुम्हारे शब्दों में
मेरे प्रिय !
अक्सर कहते हो
दुःसाहसी हूँ मैं
दुनिया  की नहीं
बस अपने दिल की सुनती हूँ
प्रेम जो अनुशाषित हो
तो प्रेम ही कैसा
मेरे प्रिय !
कहीं कोई रिश्ता
चटकता है
तो वजह होता है
एक खालीपन
दोषी एक भी हो सकता है
और दोनों भी
ये खालीपन न भरने देना
इस रिश्ते में
मेरे प्रिय !
क्यों कहते हो
प्रेम मन में रखो
शब्दों से न करो जाहिर
दुनिया से तो छुपाया है
मन ऐसा उमड़ता है
तेरे लिए
तुमसे भी न कहूँ तो
कहीं डूब न जाऊँ
मेरे प्रिय !
कोई कितना भी खास हो
मेरे लिए आम है
लोगों से बना ली है दूरियाँ
बस तेरे ख्यालों से काम है
अब दुनिया मेरे ख़िलाफ़ हो तो
संभाल लोगे न ?
मेरे प्रिय !
बहुत सोचा करती हूँ
सही गलत,फ़र्ज़,उसूल,
कायदे कानून
उलझी रही हूँ हमेशा
अब कुछ पल तो सिर्फ
अपने लिए जी लूँ
आज़ाद होकर
मेरे प्रिय !
मैंने अपना बचपन नहीं जिया
कहीं कोई मधुर याद नहीं
बहुत खाली हूँ अंदर से
क्या तुम जियोगे मेरे साथ
फिर से मेरा बचपन
जिसमें सिर्फ बेफिक्री
और मिठास हो
बोलो न
मेरे प्रिय !
मेरी हर बात तुम पर
केंद्रित हो गई है
जैसे मेरे हमराह ही नहीं
मंज़िल भी तुम हो
एक इंसान कैसे दुनिया बन जाता है
प्रेम भी कितना विचित्र है न
मेरे प्रिय !
कितना प्रेम करती हूँ
तुमको…
कुछ अंदाज़ा है ?
तुम्हारा अर्जित सारा
ज्ञान भी कम पड़ जाये
इतना
मेरे प्रिय !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Prabhat Ranjan

Check Also

अमृत रंजन की कुछ छोटी-छोटी कविताएँ

  कविता को  अभिव्यक्ति का सबसे सच्चा रूप माना जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता …

8 comments

  1. उम्दा भावांकन व शब्द कारीगरी।

  2. This comment has been removed by the author.

  3. शुक्रिया आरती 🙂

  4. बहुत खूबसूरत

  5. Thank you for the good writeup. It in fact was a
    amusement account it. Look advanced to more
    added agreeable from you! By the way, how could we communicate?

  6. Know your content material advertising and marketing viewers.

  7. hello there and thank you for your information – I’ve certainly picked up something new from right here.
    I did however expertise several technical issues using this web site,
    since I experienced to reload the site a lot of times
    previous to I could get it to load correctly. I had been wondering if
    your web host is OK? Not that I am complaining, but sluggish loading instances times will sometimes affect your placement in google and can damage your
    high quality score if advertising and marketing with Adwords.
    Anyway I’m adding this RSS to my email and can look out for a lot
    more of your respective intriguing content. Make sure you update
    this again very soon.

  8. Great article, exactly what I needed.

Leave a Reply

Your email address will not be published.