Home / Tag Archives: mrinal pande

Tag Archives: mrinal pande

राजुला मालूशाही की कथा: मृणाल पाण्डे

हिंदी की प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथाएँ लिख रही थीं। यह 28 वीं कथा और इस सीरिज़ की अंतिम कथा। इन लोक कथाओं के माध्यम से हमने देश की विविधवर्णी छवियाँ देखी, कथाएँ देखी। सीरिज़ की अंतिम कथा कुमाऊँ की प्रसिद्ध राजुला मालूशाही की …

Read More »

सरों के धड़ से जुड़ने की कथा: मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे की कथा सीरिज़ बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथाएँ की यह 27वीं कहानी है। शायद ही किसी लेखक ने इतनी लम्बी कथा सीरिज़ लिखी हो। समझ लीजिए आज के ज़माने का पंचतंत्र या हितोपदेश। यह कहानी सिर के धड़ से जुदा होने और जुड़ने की …

Read More »

मुद्दन्ना किसान और विचित्र कुएं की कथा: मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथाएँ लिख रही हैं। आज उसकी 26 वीं किस्त हाज़िर है। मुझे नहीं याद आता है कि किसी लेखक ने हिंदी में लोककथाओं की ऐसी सीरिज़ लिखी होगी। हर कथा इंसानी जीवन की चिर व्यथा की तरह है। आज तमिल …

Read More »

बहुरूपिया गुरु और चतुर चेले की कथा:  मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे बच्चों को न सुनाने लायक कथाएँ लिख रही हैं। आज 25 वीं कथा में लोक का वह आलोक है जो भौगोलिक सीमाओं को नहीं मानता। एक सी लोक कथाएँ देश की अलग अलग संस्कृतियों में हैं, उनकी सीख एक है। मृणाल पाण्डे की एक कथा सीरिज़ …

Read More »

बाघ, बंदर और दढ़ियल खाडू(मेढे) की कथा: मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे  बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथायें लिख रही हैं, हर कथा में एक सीख होती है, कोई सूझ, जो राज-समाज के बारे में हमें कुछ बता जाती है सिखा जाती है। यह 24 वीं कथा है। आप भी पढ़िए- ================================== (गढवाल की यह लोककथा मूल …

Read More »

प्रेम की ड्योढी का संतरी: मृणाल पाण्डे

बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथाएँ सीरिज़ की यह 23 वीं कथा है। लव-जिहाद के शोर के इन दिनों में प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे ने इस बार लोक की एक प्रेम कहानी उठाई है और उसकी हूक का बयान किया है। आप भी पढ़िए- ================================== (हिंदी में बेहतरीन प्रेमकथायें …

Read More »

सदेई और सदेऊ की कथा: मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका-संपादिका मृणाल पाण्डे की बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथाएँ  का यह 22 वाँ खंड है। इस बार गढ़वाल की मूल लोककथा को आधार बनाकर उन्होंने एक शानदार कथा रची है। भाषा, परिवेश, संदेश सब लिहाज़ से एक ऐसी कथा है जिसे आप बार बार पढ़ना चाहें- =================================== …

Read More »

कवि चोर के लव जिहाद की कथा: मृणाल पाण्डे

चौरपंचाशिका से लेकर उत्तराखंड के लोकगीतों में विस्तृत कथाओं का रस घोल यह कथा तैयार की है जानी मानी लेखक मृणाल पाण्डे ने। बच्चों को न सुनाने लायक़ बाल कथाएँ सीरीज़ की यह 21 वीं कथा ज़रा देर से आई लेकिन लव जिहाद क़ानून की व्यथा के बीच चोर कवि …

Read More »

बहुरुपिये राक्षस और दो भाइयों की कथा: मृणाल पाण्डे

‘बच्चों को न सुनाने लायक बाल कथायें’ सीरिज़ की यह 20 वीं कथा है। इस सीरिज़ में प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे पारम्परिक लोक कथाओं का पाठ इस तरह से करती हैं कि वे समकालीन लगने लगती हैं। एक और मानीखेज़ कथा आज पढ़िए- ========================= (क्या लोक कथाओं से राज समाज …

Read More »

पात्रापात्रा टर्रानेवाले मेंढक और चींटी की कथा:  मृणाल पाण्डे

प्रसिद्ध लेखिका मृणाल पाण्डे ने बच्चों को न सुनाने लायक बालकथाएँ लिखनी शुरू की तो परम्परा से चली आ रही एक से एक लोक कथाएँ पुनर्जीवन पाने लगी, नए संदर्भों में प्रासंगिक लगने लगी।  यह इस सीरिज़ की 19वीं कथा है। क़िस्सा पुराना है लेकिन पढ़ते हुए अपना समय ध्यान …

Read More »