पटना लिटरेचर फेस्टिवल आज से शुरु

1
33


आज से पटना लिटरेचर फेस्टिवल शुरु हो रहा है. ऐतिहासिक शहर में एक ऐतिहासिक आयोजन. दो दिनों तक चलने वाले इस आयोजन की रुपरेखा नीचे दी जा रही है- जानकी पुल.
======================================


23 मार्च 2013 (शनिवार), तारामंडल ऑडिटोरियम
सत्र 1: सुबह 9.30 से 10.30 बजे 
भाषासाहित्य और संस्कृतिउभरते भारत में पहचान की तलाश 
आलोक रायज्ञान प्रकाशइम्तियाज अहमद, पवन के. वर्मा, डेजी नारायण  से  ओम थानवी की बातचीत
सत्र 2: सुबह 10.30 से 11 बजे 
कायनात-ए-नज्म (काव्य पाठ )
कलीम अजीज, फहमीदा रियाज, फरहत शहजाद
सत्र : सुबह 11 से 11.30 बजे 
उद्घाटन कार्यक्रम 
सत्र 3: दोपहर 11.30 से 12.15 बजे 
बिटवीन दी वर्ड्स: युधिष्ठिर एंड द्रौपदी 
गुलजार और पवन के. वर्मा की बातचीत
सत्र 4: दोपहर 12.15 से 1 बजे 
किस्सा की परंपरा कहानी का शिल्प
असगर वजाहतउषा किरण खाननिलय उपाध्याय से प्रभात रंजन की बातचीत
दोपहर 1 से 2 तक विराम
सत्र 5: दोपहर 2 से 3 बजे 
रीडिंग यंग इंडियाः इमर्जिंग रीडरशिप
बिमन नाथअरूणा गिलअनुजा चैहान और रक्षांदा जलिल की बातचीत
सत्र 6: दोपहर 3 से 3.30 बजे 
बोली खड़ी बाजार में
अरुणेश नीरन और उदय नारायण सिंह से सत्यानंद निरुपम की बातचीत
सत्र 7: दोपहर 3.30 से शाम 4.30 बजे 
हिंदी का लोक-मिजाज: सिनेमा आज-कल
डा चंद्रप्रकाश द्विवेदी, संजय चौहान, सुभाष कपूर विनोद अनुपम से
अजय ब्रम्हात्मज की बातचीत
सत्र 8: शाम 4.30 से 5 बजे 
इतिहासस्मृति और आख्यान 
ज्ञान प्रकाश और आलोक राय की बातचीत
सत्र 9: शाम 5 से 5.30 बजे 
महफिल गायिकीः पूरब देस (रचना पाठ)
गजेंद्र नारायण सिंह, प्रभात रंजन, कुमुद झा दीवान. परिचय: डा अजीत प्रधान
वर्कशॉप : दोपहर 1 से 2 बजे 
ग्रोइंग अप इन ए वोइलेंट वर्ल्ड: वर्कशॉप फॉर यंग अडल्ट्स
सुभद्रा सेनगुप्ता के साथ दोस्ताना बातचीत
24 मार्च 2013 (रविवार) तारामंडल ऑडिटोरियम
सत्र 10: सुबह 9.30 से 10.30 बजे 
अन्य का लेखन: यथार्थ का स्वरूप
रूपरेखा वर्मा, असगर वजाहत, मनोरंजन ब्यापारी  से बजरंग बिहारी तिवारी की बातचीत
सत्र 11: सुबह 10.30 से 11 बजे 
उर्दू की गमक: गंगा-जमुनी अदब
वसिम बरेलवी और शकील शम्सी की बातचीत
सत्र 12: सुबह 11 से 11.30 बजे 
लाइट ऑफ कांशियसनेस: रिडिस्क्वरिंग बुद्धा 
बिनॉय के. बहलचारू कार्तिकेय की बातचीत
परिचय: सुजाता चटर्जी
सत्र 13: सुबह 11.30 से 12.15 बजे 
कथा-सरित (कहानी पाठ)
ह्रषिकेश सुलभ नासिरा शर्मा और मिथिलेश्वर. परिचय: प्रभात रंजन
सत्र 14: दोपहर 12.15 से 1 बजे 
उर्दू है नाम जिसकाजुबान का मुस्तकबिल
फहमिदा रियाजअब्दुस समद, फरहत शहजाद से सुबोध लाल की बातचीत
दोपहर 1 से 2 तक विराम
सत्र 15: दोपहर 2 से 3 बजे 
याद कनेक्शन: गांव वाया शहर
नीलेश मिश्रा
सत्र 16: दोपहर 3 से 4 बजे 
क्या हम दकियानूस हो रहे हैं?
त्रिपुरारी शरण, अंतरा देव सेन, डॉ. शैबल गुप्ता  से अपूर्वानंद की बातचीत
सत्र 17: शाम 4 से 5 बजे 
भाषा-बसंत (काव्य पाठ )
उदयनारायण सिंह, अरुण कमल, कासिम खुर्शीद, आलोक धन्वा और निलय उपाध्याय
सांस्कृतिक कार्यक्रम : 22 से 24 मार्च 2013
मार्च 22 – शाम 6.30 से 7 बजे तक
      इब्तिदा: काव्य पाठ, फरहत शहजाद
      तारामंडल ऑडिटोरियम
      शाम 7 से 8 बजे तक
      उत्सव: चैती, कजरी, ठुमरी, कुमुद झा दीवान
तारामंडल ऑडिटोरियम
मार्च 23 – शाम 6.30
      सांस्कृतिक संध्या
      प्रेमचंद रंगशाला
मार्च 24 – शाम 6.30
      सांस्कृतिक संध्या
      प्रेमचंद रंगशाला
      शाम 7.30
      संवाद: कथक प्रस्तुति, स्वाति शुक्ला
      प्रेमचंद रंगशाला

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

15 − 14 =