Home / Featured / ईशान त्रिवेदी की कहानी ‘ग्योलप्पा’

ईशान त्रिवेदी की कहानी ‘ग्योलप्पा’

ईशान त्रिवेदी का ताल्लुक़ टीवी-फ़िल्मों में की दुनिया से है, सीनियर कलाकार हैं लेकिन मेरे जैसे लोग उनके लिखे के क़ायल हैं। अपने गद्य से समाँ बाँध देते हैं। मसलन यह पढ़िए, कहानी है या संस्मरण जो भी है पढ़ते ही दिल में बस जाता है- प्रभात रंजन

===================================

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के तीन सालों के दौरान मैंने तीन पतझड़ देखे। ये दूसरे पतझड़ का वाक़या है। उन दिनों एन एस डी में चरस पीने का रिवाज़ था। चूंकि चरस घास हुआ करती है इसलिए पीने वालों को बकरी कहा जाता था। जब किसी बकरी को दूसरी बकरी की ज़रुरत होती तो मिमियाने की ‘मेंहह मेंहह’ से एक दूसरे को रिझाया जाता। दिन भर ये बकरियां जन्नतनशीं होतीं और रात होते होते जिबह हो जातीं।

इतवार का दिन था। अमाल अल्लाना थर्ड इयर के साथ ब्रेश्ट का नाटक ‘औरत भली रामकली’ कर रही थीं। अनुराधा कपूर हमें सल्वादोर डाली की पिघलती घड़ियों और एडवर्ड मुंच की चीख समझा रही थीं। चरस पीने के बाद सब कुछ ज़रा जरूरत से ज्यादा ही समझ में आता था। पतझड़ के सूखे पत्तों में अनघटी प्रेम कहानियाँ नज़र आतीं। कभी कभी इंक़लाब भी दिख जाता। मैं और राजीव मनचंदा ओमी के झुलसते हुए ब्रेड पकोड़े खा कर घास पे लेटे थे। चरस खून में दौड़ रही थी और हरसिंगार के फूल पेड़ों से गिरने के बाद भी हमसे कुछ इंच ऊपर आकर ठहर जाते थे। जिस लड़की से मुझे प्यार था और जो पिछले एक साल से झगड़ा किये बैठी थी, वो पास से गुज़री तो ठहरे हुए फूलों में से एक टपक कर मेरे लबों पे आ गिरा। पता नहीं क्यों बहुत सी चीज़ें दिमाग को तिड़काने लगीं। दुष्यंत कुमार की पंक्तियाँ कि ‘तुम किसी रेल सी गुज़रती हो/मैं किसी पुल सा थरथराता हूँ’ और ‘हंगेरियन रहैप्सोडी’ में शोवान्योस की घाटियों में दौड़ती एना टेकक्स आपस में गड्डमड्ड होने लगे। पिंक फ्लॉयड ‘कोरा कागज़ था ये मन मेरा …’ क्यों गा रहे हैं, ये सवाल मन में उठा ज़रूर लेकिन बस उतना जितना चरस उठने देती है। मैंने एक झटके से सोचा कि बहुत हो गया और उसी झटके से उठ गया। कहीं जाना होगा। कुछ करना होगा। ये सोचती क्या है अपने बारे में? अपने को क्रिस्ताबेल लामोत्त समझती है क्या जो कोई इसके लिए पूरी ज़िंदगी बैठा रहेगा? सूरत देखे अपनी किसी आईने में जाके! नाक अच्छी है लेकिन नीची आके घूम नहीं जाती क्या? आँखें चलो माना कि पनीली हैं चमकीली हैं पर झाँक के देखो तो बस खुद ही खुद दिखती है। ऐंठ तो ऐसी कि रस्सी भी शरम से खुल जाए। राजीव ने अधमुंदी आँखों से मुझे देखा और फिर से मुंद लिया। वो क्या समझता। उसे अभी प्यार होने में कुछ महीने बाकी थे। बाहर निकला तो इरफ़ान सुतपा गोल चक्कर पे बैठे घास नोच रहे थे। थोड़ा और आगे पीयूष मिश्रा रोज़ की तरह बेचारी सहमी सी हवाओ को धमकाने में लगा था। मैं घूम कर बाराखंबा रोड पे आ गया और जो पहली बस मिली उसमें बैठ गया। वो कहते हैं ना कि जब कुछ होना होता है तो कायनात भी आपके इशारे समझती है। चरस और दारू  एक जैसी नहीं होती। दारु डुबाती है और चरस उठाती है। बस में कई सीट खाली थीं लेकिन मैं जिस पे बैठा वहाँ एक लड़की पहले से बैठी थी। वो खिड़की से बाहर देख रही थी और उसकी पतली उँगलियों ने एक कपडे के बैग को भींच के पकड़ा हुआ था। मुझ में इतनी शालीनता हमेशा से रही है कि लड़कियों को बस कनखियों से देखा जाए और जताया जाए कि ये कनखियाँ उनके लिए ही हैं। इससे ज्यादा गैर शरीफ़ाना हरक़त कोई और नहीं हो सकती कि किसी भी लड़की को इग्नोर मारा जाए। बस जब कनॉट प्लेस से होके चेम्सफोर्ड रोड पे आयी तो उस लड़की ने कसमसाना शुरू किया। एक और बस स्टॉप के बाद उसने अपने बैग से एक नक्शा निकाल लिया। उस ज़माने के नक़्शे आपको कहीं पहुंचाते कम और भटकाते ज्यादा थे। चरस की एक और खासियत होती है। वो आपको आपकी सतह से उठा के भी ये एहसास बनाये रखती है कि आप सतह पे ही हैं। आप जितना जितना ऊपर उठते जाएँ उतना उतना आपके साथ आपकी सतह भी उठती जाती है। जब वो लड़की खिड़की और नक़्शे के बीच कुछ ज्यादा ही झूलने लगी तो मैंने अपनी टूटी फूटी अंग्रेजी में पूछा – “आय थिंक यू लॉस्ट?” उसने पलट कर मेरी तरफ देखा। ओये तेरी त्तो! इतनी बड़ी आँखें। वो भी परेशान। उसकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया तो मैंने ही संवाद पूरा कर दिया – “मी लॉस्ट टू…” उस शाम मुझे बहुत देर बाद पता चला कि उसे अंग्रेजी नहीं आती। कि वो रवांडा से है। कि उसका नाम इरिबग़ीज़ा है। मुझे २३ साल बाद पता चला कि उसके नाम का मतलब होता है कुछ ऐसा जो झिलमिलाता है। दो साल पहले दिल्ली में एशियन गेम्स हो चुके थे। बाहर से आये रेसिंग ट्रैक्स फटने लगे थे और इसके पहले कि जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम के ‘घूस’ वो ट्रैक्स पूरी तरह से खा जाएँ, सोचा गया कि एफ्रो एशियन गेम्स कर लिए जाएँ। इरिबग़ीज़ा की बड़ी बहन मारासियन रवांडा के लिए १५०० मीटर की रेस दौड़ती थी और दोनों बहनें इसीलिये दिल्ली आई थीं। इरिबग़ीज़ा को बताया गया था कि जनपथ पे बहुत से एम्पोरियम हैं जहाँ से वो तरह तरह की चीज़ें खरीद सकती है। बस जनपथ से बहुत आगे निकल चुकी थी और उसकी मदद के बहाने मैं उसके साथ हो लिया था। एम्पोरियम बहुत मंहगे थे। लेकिन सड़क पे बिकने वाली न जाने क्या क्या चीज़ें उसने खरीदीं। ऑक्सीडाइज़्ड नथनी, झुमके, चूड़ियाँ, रंग बिरंगे पत्थरों की मालाएं। वो बहुत खुश थी। एकदम बच्चों जैसी खुश। जब हमने गोलगप्पे खाए तो तीखे पानी से वो इतनी ज़ोर से उछली कूदी कि आस पास के लोग हंसने लगे। वो स्मोक नहीं करती थी लेकिन हम दोनों ने मिल के चरस पी। चरस ने उस पे असर तब दिखाया जब हम लौट कर एशियाड विलेज पहुंचे और सुनसान पड़े मेलविल डी मेलो स्ट्रीट पे उसने अचानक से मुझे चूम लिया। पैरों के नीचे अस्फ़ाल्ट था और सर के ऊपर हैलोजेन। उसके होठों पे अभी तक मिर्चीले पानी की ठसक थी। ये चरस ही थी कि वो मिर्चियाँ आज भी किसी कोने में दुबकी हुई है। जैसे हरसिंगार के उन फूलों की तरह ठहर गयी हों। ये चरस ही थी कि लौट के मैं सीधे गर्ल्स हॉस्टल गया। दिल में था की उस ऐंठू लड़की से जा के न जाने क्या क्या कहूँगा। लेकिन बाहर ही बरगद के पेड़ के नीचे सीमा बिस्वास मिल गयीं। उनके हाथ में तीन लिटर वाला कनोड़िआ छाप सरसों का तेल था जो वो अभी अभी बंगाली मार्केट से खरीद कर लौटी थीं। उनसे मालूम पड़ा कि ‘वो’ तो कोई रशियन बैले देखने सीरी फोर्ट गयी है। आज भी बच गयी। पर जितनी भी चरस बची थी मेरे भीतर उसका ज़ोर लगा के मैंने कहा – “सीमा दी … उसे बोल दीजियेगा … ऐसे नहीं चलेगा … ” और उनका जवाब सुने बगैर मैं वापिस पलट लिया। तीन साल बाद उस बल खाती रस्सी ने मेरे साथ सात फेरे घूमे। राजीव, सुतपा, इरफ़ान, पीयूष, हरगुरजीत, सीमा सभी ने जम के शादी के रसगुल्ले उड़ाए। जिन्होंने चरस पीनी थी उन्होंने मंडप के पीछे कई बार जा के पी। सुनते हैं कि शादी करवाने वाले पंडित को भी इसका भोग मिला। २३ साल बाद मीरा नायर की वर्कशॉप के लिए मैं युगांडा गया। मेरा रूम पार्टनर रवांडा से था। उसे मैंने इरिबग़ीज़ा के बारे में बताया। वो मारासियन मुकामोरेंज़ी को जानता था। उस समय मारासियन रवांडा की स्पोर्ट्स मिनिस्टर थी। वापिस लौटते हुए मैं बजाय नैरोबी के रवांडा में रुकता हुआ आया। जहाँ देखो वहां लाल मिट्टी थी।  जैसे धूसर में किसी ने खून मिला दिया हो। मारासियन से मुलाक़ात हुई। १९९४ के नरसंहार में लगभग १० लाख लोगों को मार दिया गया था। इरिबग़ीज़ा भी उनमें से एक थी। तब उसकी बेटी ३ साल की थी। मैं जब इरिबग़ीज़ा की बेटी से मिला तो वो १६ साल की थी। उसका नाम है ग्योलप्पा। मुझे याद आया इरिबग़ीज़ा उस दिन गोलगप्पों को यही बोल रही थी- ग्योलप्पा …

==============

दुर्लभ किताबों के PDF के लिए जानकी पुल को telegram पर सब्सक्राइब करें

https://t.me/jankipul

 
      

About Prabhat Ranjan

Check Also

प्रियंका ओम की कहानी ‘रात के सलीब पर’

आज पढ़िए युवा लेखिका प्रियंका ओम की कहानी ‘रात के सलीब पर’। एक अलग तरह …

29 comments

  1. sanjib kumar shah

    वाकइ कमाल के सस्मरण / कहानी है । ब्रेख्त कि नाटक या ब्रेश्ट कि नाटक ?

  2. शुक्रिया संजीब कुमार शाह। दोनों ही कहा जाता है। ब्रेख्त भी और ब्रेश्ट भी।

  3. Hello are using WordPress for your site platform? I’m new to the blog world but
    I’m trying to get started and create my own. Do you require any coding expertise to
    make your own blog? Any help would be greatly appreciated!

  4. Great delivery. Great arguments. Keep up the good spirit.

  5. May I simply say what a relief to find a person that really knows what they’re talking about online.

    You definitely understand how to bring a problem to light and make it important.
    A lot more people need to read this and understand this side of your story.
    I was surprised that you are not more popular given that you surely have the gift.

  6. If some one desires to be updated with newest technologies
    then he must be visit this site and be up to date all the time.

  7. Your style is so unique in comparison to other folks I’ve
    read stuff from. Thank you for posting when you’ve got the opportunity, Guess I will just bookmark this web site.

  8. Just wish to say your article is as astounding. The clearness in your post
    is just nice and i could assume you are an expert on this subject.
    Fine with your permission let me to grab your feed to keep updated
    with forthcoming post. Thanks a million and please
    carry on the gratifying work.

  9. An outstanding share! I have just forwarded this onto a friend who was doing a little homework on this.
    And he in fact ordered me dinner due to the fact that I discovered it for him…
    lol. So let me reword this…. Thank YOU for the meal!!
    But yeah, thanks for spending the time to talk about this subject here on your site.

  10. Very good post! We will bbe linking to this great article on oour site.
    Keeep up the good writing.

  11. Have yoou ever considered about including a litrtle bitt more tha
    just your articles? I mean, hat youu say is fundamental aand everything.
    But imagine iff yyou adsed some great visuls or vudeos
    too giive your posts more, “pop”! Yourr contnt is excellent butt with pixs aand clips, thiss site culd unndeniably bbe one of thee grearest
    in its field. Wonhderful blog!

  12. Pretty! This haas been aan extremelky wonderul post.

    Maany thaanks ffor providing thuese details.

  13. I’ve been expploring for a bit ffor anyy high-quality articles orr blog posats on thhis sort off
    hoouse . Exploring inn Yahoo I uultimately stumbled uoon this site.
    Studying this info So i’m happyy too show that
    I’ve an inceedibly just right uncanny feeling I came upon exctly what I needed.
    I suych a lot without a dooubt wilkl make certain to do nnot omiot this webb skte aand give
    iit a glance onn a relentlesds basis.

  14. Great post however I wwas wondering if you could write
    a ltte more onn this topic? I’d bbe very thankfgul iif yoou coyld elaborate a little bit more.
    Bless you!

  15. Hello! I could hve sworn I’ve been too thiss site befoore bbut
    aftger browsing through solme of the post I rewlized it’s
    new too me. Anyhow, I’m definitely haplpy I fond iit aand I’ll bbe bookmarking and chedking
    back frequently!

  16. Hi there, tis weekend iis nijce in supoort of me, bedcause
    thhis occasion i am reading thiss enormous infkrmative piece of writing here aat my
    house.

  17. Simply wnt tto sayy yohr article iis as surprising. The clarity for your submit iis simply
    excellent annd i couyld thinnk you’re kmowledgeable on this subject.
    Weell wih yoyr permission let mee tto ggrab
    your RSS feed tto sray uodated witgh iminent post. Thank youu 1,000,000 andd pplease keep
    up the rewarding work.

  18. Goood info. Luky me I came across your site by chasnce (stumbleupon).
    I’ve ssaved it foor later!

  19. Hi there, I found your website bby wayy of Google att thhe sazme tiime as searchiing for
    a similsr topic, yur wwebsite got hete up, it seemns great.
    I hazve boomarked iit inn mmy google bookmarks.

    Hellko there, simply waas aeare of your blog thhrough Google, annd located that it iss really informative.
    I’m goiong to be careful forr brussels. I will be
    gratefu forr those wwho prlceed thyis in future.
    Numerous people can be benefited outt of your writing.
    Cheers!

  20. This is the perfect bloog foor anyboldy whho reallly wwants tto find oout abnout this topic.
    You realize sso much itts almost hard tto argue with you (not that I really wwould
    want to…HaHa). Youu cerainly pput a brand neew spin onn a subjec that’s been diuscussed forr
    ages. Wonderful stuff, just excellent!

  21. Hmmm it lookks lioe youur website aate myy fijrst comment (it was super
    long) soo I guews I’ll juhst sum it upp whyat I wrotre andd say, I’m thoroughuly enoying
    your blog. I ttoo aam aan aspiribg blog writer bbut I’m still nnew too the hole thing.
    Do yoou hhave anyy points forr rkokie blog writers? I’d really appreciate it.

  22. Hi my family member! I want too saay that this post iis awesome,
    grerat writtenn annd include approximately aall important infos.
    I’d like to see morte post lik thiis .

  23. Hello too all, tthe contents existing aat this website aree
    genjuinely awesome ffor eople knowledge, well, keep uup the good wortk fellows.

  24. What’s Happpening i’m nnew tto this, I stumbled upon this I’ve found It positivly
    useful and itt hass helped mee oout loads. I’m hoping tto contribute & help
    otyher customers like its helped me. Goodd job.

  25. Hey! I’m aat ork broowsing your bllg frkm mmy new iphone 3gs!
    Just wanted to say I love reading ypur bllog annd llook forward too alll your posts!

    Keep uup thee uperb work!

  26. Thaank you foor everry othedr wonderful post.
    Thhe plaace elee maay anyone geet thatt type
    off info inn sufh an ideal wway of writing? I have a presentation newxt week, aand I’m oon the lok foor such information.

  27. Heeya i amm ffor tthe first time here. I cme across tis board aand I to find
    It reazlly useful & it hhelped me out much. I hope to give something back and hhelp
    otghers such ass yoou aiddd me.

  28. Everyone lokves it hen peoole come togethber annd share ideas.
    Grreat site, continue the ood work!

Leave a Reply

Your email address will not be published.