Home / Featured / एक शाम बराक मुझे डेट पर लेकर गए

एक शाम बराक मुझे डेट पर लेकर गए

हाल में ही अमेरिका की पूर्व प्रथम महिला मिशेल ओबामा की आत्मकथा ‘बिकमिंग’ का हिंदी अनुवाद प्रकाशित हुआ है पेंगुइन हिंदी पॉकेट बुक्स से। अनुवाद किया है कुमारी रोहिणी ने। प्रस्तुत है पुस्तक का एक रोचक अंश- मॉडरेटर

=============================

मई में शनिवार की एक शाम बराक मुझे डेट पर लेकर गए. राष्ट्रपति बनने के चार महीने तक वे अपने दिन उन जरियों को बनाने में लगे रहे जिनसे प्रचार अभियान के दौरान मतदाताओं से किये गए वादे पूरे किये जा सकें, अब वह मेरे साथ किये गए वादे को पूरा कर रहे थे. हम लोग न्यूयॉर्क जा रहे थे, डिनर करने के लिए और एक शो देखने के लिए.

शिकागो में रहने के सालों के दौरान डेट की रात हमारे लिए हर सप्ताह का एक पवित्र हिस्सा होता था, हम लोगों ने अपने जीवन में एक आदत डाल ली थी और हर हाल में उसकी रक्षा करते थे. उस हल्के अँधेरे कमरे में मेज के आमने सामने बैठकर मुझे अपने पति से बात करना अच्छा लगता था. मुझे हमेशा लगता रहा है, और मैं उम्मीद करती हूँ कि हमेशा लगता रहेगा. बराक बहुत अच्छी तरह बातें सुनते, धीरज के साथ और सोच विचार करते हुए. वह जिस तरह हँसते हुए अपने सर को पीछे करते वह मुझे बहुत अच्छा लगता. उनकी  आँखों में जो हल्कापन है वह मुझे पसंद है, उसके अन्दर जो करुणा है वह. साथ बैठकर एक ड्रिंक लगाना या बिना जल्दबाजी के खाना शुरू से ही हमें बहुत अच्छा लगता रहा है, उस पहली गर्मी के दिनों से ही जब हमारे बीच सब कुछ बहुत उत्तेजना भरा था.

अपने न्यूयॉर्क के डेट के लिए मैं तैयार हो गई,मैंने काले रंग का कॉकटेल ड्रेस पहना और लिपस्टिक लगाई, अपने बालों को खूब अच्छी तरह से सजाया. मैं इस बात को सोच कर बहुत उत्तेजित थी कि मैं अपने पति के साथ अकेली जानेवाली थी. पिछले कुछ महीनों में, हम लोगों ने डिनर का आयोजन किया था और केनेडी में साथ साथ प्रदर्शन देखने भी गए थे, लेकिन उसमें हम आधिकारिक हैसियत से गए थे और वहां बहुत से अन्य लोग भी थे. यह सच में रात में छुट्टी लेने जैसा था.

बराक ने गहरे रंग का सूट पहन रखा था और साथ में टाई नहीं थी. मैंने देर दोपहर अपनी बेटियों को किस किया और अपनी माँ को भी और हाथ में हाथ डाले हुए दक्षिण तरफ के लॉन को पार किया और मरीन 1 में चढ़ गए, जो राष्ट्रपति का हेलीकाप्टर है, उसमें सवार होकर हम एंड्रयूज एयरफ़ोर्स के बेस तक गए. उसके बाद हम एयर फ़ोर्स के एक छोटे से जहाज में सवार हुए, उसके बाद जेकेएफ हवाई अड्डे गए, और उसके बाद हम लोगों को हेलीकाप्टर से मैनहटन ले जाया गया. हमारे शेड्यूल बनाने वाले दल और सेक्रेट सर्विस ने बहुत ध्यान से हमारे उस सफ़र की योजना पहले ही बना ली थी, जिसका मतलब था कि बहुत अधिक कार्यकुशलता और सुरक्षा.

बराक ने(सैम कस की मदद से) वाशिंगटन स्क्वायर पार्क के पास एक रेस्तरां का चुनाव किया था, वह जानता था कि स्थानीय रूप से उगाए गए भोजन के ऊपर मेरा जोर रहता था, इसलिए उसने एक छोटे से रेस्तरां ब्लू हिल का चुनाव किया था. जब हम अपने सफ़र के अंतिम चरण में हेलीपैड से निचले मैनहटन की तरफ कार से जा रहे थे तो मैंने देखा कि पुलिस वालों के कार की लालबत्ती का सड़क को घेरा बनाने के लिए इस्तेमाल किया था, मुझे ग्लानि भी हो रही थी कि हमारे शहर में होने भर से शनिवार की शाम की ट्रैफिक का प्रवाह थम गया था. न्यूयॉर्क के बारे में सोचकर ही मुझे हर बार एक तरह से अच्छा नहीं लगता था, वह इतना बड़ा और व्यस्त था कि किसी के भी अहम् को बौना बना सकता था. मुझे याद था कि जब बरसों पहले मैं सरनी, जो प्रिंसटन में मेरी मेंटर थी, के साथ पहली बार इस शहर में आई थी तो किस तरह आँखें फाड़ फाड़ कर देख रही थी. बराक के बारे में मैं जानती थी कि वह कुछ गहराई से महसूस कर रहा था. शहर की बेहद ऊर्जा और विविधता सालों पहले जब वह कोलंबिया में पढता था तो उसकी बौद्धिकता और कल्पना को पंख देने के लिए सबसे उपयुक्त जगह थी.

रेस्तरां में हम लोगों को जो टेबल दिया गया वह एक कोने में था और हमारे आसपास जो लोग बैठे थे वे यह कोशिश कर रहे थे कि कुछ बेढंगा न करें. लेकिन हमारे आगमन को छिपाया नहीं गया था. हमारे आने के बाद कोई भी वहां आ सकता था. बस उसको सेक्रेट सर्विस द्वारा लगाये गए मैग्नेटोमीटर से होकर गुजरना होता था, यह एक ऐसी प्रकिया थी जो जल्दी जल्दी में तो हो जाती थी लेकिन मुझे एक बार फिर तकलीफ हुई.

हम लोगों ने मार्तिनी के लिए आर्डर दिया. हम हलकी फुलकी बातें कर रहे थे. चार महीने तक हमारे जीवन में जो उठापटक चल रही थी लेकिन उसके बावजूद हम बिंदास अंदाज में आये थे- हम यह समझने की कोशिश कर रहे थे कि किस तरह एक पहचान दूसरी पहचान के साथ काम करती थी और शादी के अन्दर इसका क्या मतलब होता था. इन दिनों, बराक के जटिल जीवन का कोई भी हिस्सा ऐसा नहीं था जो मेरे जीवन को प्रभावित न कर रहा हो, जिसका मतलब यह था कि बहुत से साझा काम थे जिसके ऊपर हम बात कर सकते थे- उदाहरण के लिए लड़कियों की गर्मी की छुट्टियों के दौरान उसकी टीम द्वारा विदेश यात्रा का आयोजन करना, या वेस्ट विंग में सुबह के समय जो मीटिंग होती थी उसमें मेरे चीफ ऑफ़ स्टाफ की बात सुनी जा रही थी या नहीं- लेकिन मैं आमतौर पर इन बातों को टाल ही देती थी, केवल उस रात ही नहीं बल्कि हर रात. अगर वेस्ट विंग में होने वाली किसी बात से मुझे परेशानी होती थी तो मैं अपने कर्मचारियों के ऊपर इस बात को छोड़ देती थी कि वे बराक तक इस बात को पहुंचा दें, मैं अपने निजी समय से वाइट हाउस के कामकाज को अलग ही रखती थी.

कई बार बराक काम के बारे में बात करना चाहते थे, लेकिन वह अक्सर इस बात को टाल ही देते थे. उसका अधिकतर काम इतना थकाने वाला होता था, चुनौतियाँ बड़ी थीं और अक्सर बहुत मुश्किल भी. जेनरल मोटर्स कुछ दिन में ही दिवालिया घोषित करने वाला था. उत्तर कोरिया ने हाल में ही परमाणु बम का परीक्षण किया था, और बराक जल्दी मिस्र जाकर एक बड़ा भाषण देने वाले थे जिसका मतलब यह था कि दुनिया भर में फैले मुसलमानों की तरफ हाथ बढ़ाना. उसके आसपास की धरती ऐसा लगता था कि हिलने से थम नहीं पा रही थी. जब भी हमारे पुराने दोस्त वाइट हाउस हम लोगों से मिलने आते तो हम उन लोगों से जिस बेचैनी से उनकी नौकरी, बच्चों, बच्चों के शौक आदि के बारे में पूछते कि वे हैरान रह जाते. हम दोनों की ही इस बात में कम रूचि रहती थी कि हम अपनी नई दुनिया की जटिलताओं के बारे में बात करें बल्कि हमारी दिलचस्पी इस बात में होती थी कि घर के बारे में कुछ नया हाल समाचार सुनने को मिले. ऐसा लगता था कि हम दोनों सामान्य जीवन को देखने के लिए तडपते थे.

उस शाम न्यूयॉर्क में हम लोगों ने खाया, पिया, मोमबत्ती की रौशनी में बातें की, उस पल को महसूस किया, हालाँकि हमें यह भ्रम था कि हम उस दुनिया से बाहर आ गए थे. वाइट हाउस बहुत सुन्दर और आरामदेह स्थान है, वह एक तरह का महल है जो घर की तरह है, और अगर हम सेक्रेट सर्विस के नजरिये से देखें जिनके ऊपर हमारी सुरक्षा का जिम्मा है, सबसे आदर्श यही होता कि हम उसकी धरती से बाहर निकलें ही नहीं. यहाँ तक कि उसके अन्दर भी वे इस बात से अधिक खुश होते थे कि हम सीढ़ियों की जगह एलेवेटर का प्रयोग करें, ताकि लड़खड़ा कर गिरने का खतरा कम किया जा सके. अगर ब्लेयर हाउस में बराक और मेरी मीटिंग होती, जो पेंसिलवानिया एवेन्यू के बंद पड़े हिस्से के सामने था, तो कई बार वे हम लोगों से यह आग्रह करते थे कि हम ताज़ी हवा में चलकर जाने के बजाय कार का प्रयोग करें. हमारा इतना ध्यान रखा जाता था हम उसका सम्मान करते थे लेकिन ऐसा लगता था जैसे हम बंदी हों. कई बार मुझे संघर्ष करना पड़ता था, अपनी जरूरतों को दूसरों की सुविधाओं के मुताबिक़ करना पड़ता था. अगर हमारे परिवार का कोई सदस्य ट्रूमैन बालकनी में जाना चाहता था- बहुत प्यारा घुमावदार टैरेस था, जिससे साउथ लॉन दिखाई देता था, और वाइट हाउस में हमारा एकमात्र कुछ हद तक निजी स्थान था- लेकिन वहां जाने से पहले हमें पहले सेक्रेट सर्विस को सूचित करना पड़ता था ताकि वे ई स्ट्रीट वाले हिस्से को बंद कर दें जो कि बालकनी से दिखाई देता था, वाइट हाउस के बाहर जो पर्यटक दिन रात जुटे रहते थे उनको वहां से हटाने के लिए. कई बार मेरा मन होता था कि बालकनी में जाकर बैठूं, लेकिन फिर मुझे यह देखते हुए कि इसकी वजह से कितनी परेशानी होगी, कितने लोगों की छुट्टियाँ खराब हो जायेंगी, यह सब महज इस कारण से कि मेरा मन हुआ कि बाहर बैठकर एक कप चाय पी जाए. यह सब सोचकर मैं बाहर बैठने का इरादा त्याग देती थी.

हमारी गतिविधियों के ऊपर इस कदर नियंत्रण रहता था कि बराक और मैं दिन भर में कितने कदम चलते थे वह भी नाप तौल कर होता था. ज्सिके कारण, हम दोनों ही घर के ऊपर बने एक छोटे से जिम के ऊपर निर्भर हो गए. बराक ट्रेडमिल पर करीब एक घंटा रोज चलते थे, अपनी शरीरिक बेचैनी को कम करने की कोशिश करते थे. मैं भी हर सुबह व्यायाम करती थी, अक्सर कोर्नेल के साथ, जो शिकागो में हमारा ट्रेनर था और अब वह हमारी तरफ से कुछ समय वाशिंगटन में रहता था, सप्ताह में कुछ दिन आता था ताकि हम लोगों को व्यायाम करवा सके.

देश के कामकाज को एक तरफ करने के बाद बराक और मेरे पास बात करने के लिए विषयों की कमी नहीं रहती थी. उस रात डिनर पर हम लोगों ने मालिया के बांसुरी सीखने के बारे में बात की; साशा किस तरह से अपने कम्बल को लेकर डूबी रहती थी वह उसको अपने सर के नीचे रखकर सोती थी. जब मैंने उसको एक मेकअप आर्टिस्ट के बारे में एक मजेदार कहानी सुनाई कि किस तरह एक मेकअप आर्टिस्ट ने हाल में मेरी माँ को एक फोटो शूट से पहले नकली पलकें लगाने की कोशिश की लेकिन लगा नहीं पाया, यह सुनकर बराक उसी तरह से अपना सर पीछे किया और हंसने लगे जिस तरह मुझे लगता था कि वह हँसेंगे. और हमारे घर में एक नया मनोरंजक बच्चा आ गया था जिसके बारे में बातें होती थीं- सात महीने का बहुत ही बदमाश पुर्तगाली कुत्ता, जिसका नाम हम लोगों ने बो रखा था, जो हमें सीनेटर टेड कैनेडी ने उपहार में दिया था, इससे लड़कियों से प्रचार अभियान के दौरान हम लोगों ने जो वादा किया था वह भी पूरा हो गया. लड़कियां लॉन में उसके साथ हाइड एंड सीक का खेल खेलती थीं, पेड़ के पीछे छिपकर उसका नाम पुकारती थीं और वह वह घास पर उछलता हुए उनकी आवाज के पीछे भागता था. हम सब बो को प्यार करते थे.

जब हम लोगों ने आखिरकार खाना ख़त्म किया और जाने के लिए खड़े हुए तो आसपास जो लोग खाना खा रहे थे वे भी खड़े होकर तालियाँ बजाने लगे, जो मुझे उनकी विनम्रता तो लगी ही लेकिन बेवजह भी लगी. यह भी हो सकता है कि उनमें से कुछ लोग इस बात से खुश हो रहे हों कि हम वहां से जा रहे थे.

=============

  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
  •  

About Prabhat Ranjan

Check Also

सोनी पाण्डेय की कहानी ‘सलम – बाई’

युवा लेखिकाओं में सोनी पाण्डेय का नाम जाना पहचाना है और यह उनकी एक चर्चित …

Leave a Reply

Your email address will not be published.