Home / कविताएं (page 3)

कविताएं

यतीश कुमार द्वारा ‘मैला आँचल’ की काव्यात्मक समीक्षा

युवा कवि यतीश कुमार की काव्यात्मक समीक्षाओं के क्रम में इस बार पढ़िए रेणु के उपन्यास ‘मैला आँचल’ पर उनकी यह टिप्पणी। यह रेणु जी की जन्म शताब्दी का साल है। उनकी रचनाओं को नए सिरे से पढ़ने, नए संदर्भों में समझने का साल है- ===========================   मैला आँचल -पढ़ते …

Read More »

यतीश कुमार द्वारा ‘कसप’ पर काव्यात्मक टिप्पणी

यतीश कुमार बहुत निराले कवि हैं, जब कोई किताब पढ़ते हैं तो उसकी समीक्षा करते हुए कविता लिख देते हैं। पिछले दिनों उन्होंने मनोहर श्याम जोशी का उपन्यास ‘कसप’ पढ़ा और ऐसे प्रभावित हुए कि कई कविताएँ लिख दी। यह उनकी मौलिक शैली है और इस शैली में उनकी लिखी …

Read More »

जसिंता केरकेट्टा की कुछ कविताएँ

जसिंता केरकेट्टा झारखंड में रहती हैं और उनकी कविताओं में मूल निवासी समाज का दर्द, संघर्ष नज़र आता है। आज उनकी कुछ कविताएँ पढ़ते हैं जो उनके शीघ्र प्रकाशित होने वाले कविता संग्रह ‘ईश्वर और बाज़ार’ से है, जिसका प्रकाशन राजकमल से होने वाला है – मॉडरेटर =========================== 1.   …

Read More »

मुक्ति शाहदेव की कुछ कविताएँ

मुक्ति शाहदेव पेशे से अध्यापिका हैं। राँची में रहती हैं। उनका पहला कविता संग्रह प्रकाशित हुआ है ‘आँगन की गोरैया’। कुछ कविताएँ उसी संग्रह से- मॉडरेटर ======================= प्रेयसी वसंत की   मैं हूँ पलाश प्रेयसी वसंत की शोख़ चंचल उन्मुक्त। उदासी का मेरे आँगन है क्या काम? पल-पल प्रतिपल प्रतीक्षारत …

Read More »

युवा कवि कुशाग्र अद्वैत की कुछ कविताएँ

नए लड़के जब अच्छा लिखते हैं तो बहुत खुशी होती है। वे भाषा का भविष्य हैं, भाषा की श्रेष्ठ सर्जनशीलता का। कुशाग्र अद्वैत बीए तृतीय वर्ष के छात्र हैं, काशी हिंदू विश्वविद्यालय में पढ़ते हैं। ज़रा उनकी कविताओं की ताज़गी देखिए- मॉडरेटर ================================= 1 एक सोलह बरस के लड़के की …

Read More »

‘ओस पसीना बारिश फूल’ पर एक काव्यात्मक टिप्पणी

युवा कवि मिथिलेश कुमार राय की कविताओं में गाँव का दैनन्दिन जीवन इतनी सहजता से दर्ज होता है पढ़कर आप हैरान रह जाते हैं। उनकी कविता उनके जीवन से गहरे जुड़ी कविता है। उनके कविता संग्रह ‘ओस पसीना बारिश फूल‘ की प्रकाशन के बाद अच्छी चर्चा हुई है। उनके इसी …

Read More »

यतींद्र मिश्र की कुछ वासंती कविताएँ

आज बसंत पंचमी है। सूफ़ी परम्परा में भी बसंत का बड़ा महत्व रहा है। इसी अवसर पर जाने माने कला मर्मज्ञ , कवि यतींद्र मिश्र की कुछ कविताएँ पढ़िए। बसंत की इस परम्परा को उन्होंने शब्दों में पिरोते हुए यह याद दिलाने की कोशिश की है कि इस देश में …

Read More »

मराठी कवि यशवंत मनोहर की कविता ‘बापू’ हिंदी अनुवाद में

कल राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है। आज प्रस्तुत है मराठी के कवि यशवंत मनोहर की कविता ‘बापू’, जिसका मराठी से हिंदी अनुवाद किया है भरत यादव ने- मॉडरेटर ========================= बापू! -यशवंत मनोहर   १. बापू! …और फिर भी उन्होंने गोलियांँ दाग़कर आपका खून किया। इन्सान को मारना आसान होता …

Read More »

शिरीष कुमार मौर्य के नए कविता संग्रह ‘रितुरैण’ से कुछ कविताएँ

शिरीष कुमार मौर्य का नया कविता संग्रह राधाकृष्ण प्रकाशन से प्रकाशित हुआ है-रितुरैण। शिरीष जी मेरी पीढ़ी के उन कवियों में हैं जिनको आरम्भ से ही मैंने पढ़ा है और उनके भाव तथा कहन को बेहद पसंद करता आया हूँ। उनकी कविताओं का अपना ऋतु है अपने परिवर्तन है। दिल्ली …

Read More »

अर्चना लार्क की कुछ कविताएँ

आज युवा कवयित्री अर्चना लार्क की कविताएँ पढ़िए। कुछ अनछुए विषय, अनछुए भाव कविता में ले आना भी उपलब्धि होती है। इतनी कविताएँ लिखी जा रही हैं उनमें अलग से पहचानी जाने वाली कविताएँ हैं अर्चना लार्क की- मॉडरेटर ============================ राख हो चुकी लड़की   शब्द शून्य हो रहे आवाज़ …

Read More »