Home / कविताएं (page 4)

कविताएं

गौतम राजऋषि की ताज़ा नज़्म ‘ये गुस्सा कैसा गुस्सा है’

आज पढ़िए जाने-माने शायर गौतम राजऋषि की ताज़ा नज़्म- ======================   ये ग़ुस्सा कैसा ग़ुस्सा है ये ग़ुस्सा कैसा-कैसा है ये ग़ुस्सा मेरा तुझ पर है ये ग़ुस्सा तेरा मुझ पर है ये जो तेरा-मेरा ग़ुस्सा है ये ग़ुस्सा इसका-उसका है ये ग़ुस्सा किस पर किसका है ये ग़ुस्सा सब …

Read More »

प्रयाग शुक्ल की नई कविताएँ

कल यानी 28 मई को जाने-माने कवि-कला समीक्षक प्रयाग शुक्ल का जन्मदिन था। वे 81 साल के हो गए। उन्होंने कुछ नई कविताएँ लिखीं। आप उन कविताओं को यहाँ पढ़ सकते हैं –- =========   1 आशंका   जब लगा होगा मन मेरा किसी काम में- कोई टोक देगा! जब …

Read More »

अनुराग अनंत की ग्यारह कविताएँ

आज युवा कवि अनंत अनुराग की कविताएँ पढ़िए। ताज़गी का अहसास होगा- =======================   !! लगभग सिर्फ़ एक शब्द नहीं है !!   (1)   एक बरसात से दूसरी बरसात तक जाते हुए बीच में मिलती है सर्दी और गर्मी बहुत से लोग, उनकी प्यास उदास कुत्ते और उनकी भूख …

Read More »

सदी का सबसे क्रूर क़ातिल- रवित यादव की कविताएँ

दिल्ली विश्वविद्यालय के लॉ फ़ैकल्टी के छात्र रवित यादव की कविताएँ पढ़िए। आज के समय में बहुत प्रासंगिक हैं- ======================================   1- सदी का सबसे क्रूर क़ातिल ———————- झकझोरती हैं जब कानों पर पड़ती चीखें   जब थमती सांसो के साथ जीने की आस थरथराती है   जब टटोलते हो …

Read More »

अजय सोडानी की दो कविताएँ

अजय सोडानी को हम सब उनके यात्रा वृत्तांतों के कारण जानते हैं। आज उनकी दो कविताएँ पढ़ते हैं। इन कविताओं में हम सबकी आवाज़ भी शामिल समझिए। आज के हालात पर चुभती हुई कविताएँ- ================   न भगवा, ना सब्ज़ न भाषण, ना शासन न चोटी, ना टोपी न जुन्नार, …

Read More »

शरद चंद्र श्रीवास्तव की कुछ कविताएँ

a कुछ दिन पहले ही भाई शरद चंद्र श्रीवास्तव ने अपनी कुछ कविताएँ पढ़ने के लिए भेजी थीं। क्या पता था अब उनसे कभी संवाद नहीं हो पाएगा। उनकी इन कविताओं के साथ जानकी पुल की ओर से शरद जी को श्रद्धांजलि- =============================   1. “अपने अपने एकलव्य”   हर …

Read More »

पूजा प्रसाद की कुछ कविताएँ

आज कविताएँ पूजा प्रसाद की। पूजा पेशे से पत्रकार हैं। फ़िलहाल न्यूज़ 18 ऑनलाइन से जुड़ी हैं। लम्बे समय से इस पेशे में हैं। उनकी कविताओं में देखने का एक अलग नज़रिया लगा और कहन की एक अलग शैली। आप भी पढ़िए- =============================   अब धैर्य नहीं     उम्मीद, …

Read More »

महेंद्र मधुकर की कुछ कविताएँ

महेंद्र मधुकर हिंदी के प्रोफ़ेसर रहे हैं, कवि-गीतकार-उपन्यासकार महेंद्र जी बहुमुखी प्रतिभा के धनी रहे हैं। आज पहली बार जानकी पुल पर उनकी कुछ कविताएँ पढ़िए- ============================== बंधु से                                           …

Read More »

युवा कवि गोलेंद्र पटेल की कविताएँ

आज किसान और किसानी जीवन पर कुछ चकित का देने वाली कविताएँ पढ़िए।इसके कवि गोलेन्द्र पटेल के बारे में इतना ही जानता हूँ कि काशी हिंदू विश्वविद्यालय के छात्र हैं- =================     1.   ऊख //   (१) प्रजा को प्रजातंत्र की मशीन में पेरने से रस नहीं रक्त …

Read More »

तोताबाला ठाकोर के नाम एक खुला ख़त

हिंदीनेक्स्ट पर तोताबाला ठाकोर की कविताओं को पढ़कर उसके नाम एक खुला ख़त लिखा है ‘नीना आंटी’ की लेखिका अनुकृति उपाध्याय ने। आप भी पढ़ सकते हैं- तोतबाला ठाकोर के आत्मकथ्य वाली कविताएँ पढ़ीं । कविताओं का मुहावरा और शैली मौलिक है, कविता में कथा तत्त्व के कारण रोचकता भी …

Read More »