Home / रपट

रपट

शिक्षा में मातृभाषा का महत्व: डॉक्टर दीपक कोईराला

ज़ाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज(सांध्य) में ” शिक्षा में मातृभाषा  का महत्व ” विषय पर मातृभाषा दिवस पर दिनांक 17 फ़रवरी को चौथे  व्याख्यान का आयोजन किया गया। आयोजन का आरम्भ डॉक्टर लालजी के वक्तव्य से हुआ। उसके बाद ज़ाकिर हुसैन दिल्ली विश्वविद्यालय(सांध्य) के प्राचार्य प्रोफ़ेसर मसरूर अहमद बेग ने डॉक्टर …

Read More »

तकनीक ने हिंदी भाषा को बाज़ारवाद का एक नया रूप दे दिया: अरूण मित्तल

ज़ाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज(सांध्य) में आधुनिक तकनीकी युग में हिंदी भाषा के उपयोग का बदलता परिदृश्य विषय पर मातृभाषा व्याख्यानमाला का तीसरा व्याख्यान आयोजित हुआ, जिसमें मुख्य वक्ता थे डॉक्टर अरूण मित्तल। कार्यक्रम के आरंभ में संयोजक डॉक्टर लालजी ने मातृभाषा के महत्व और व्याख्यानमाला के आयोजन के प्रयोजन के …

Read More »

रश्मि शर्मा को शैलप्रिया स्मृति सम्मान

रांची की वरिष्ठ कवयित्री शैलप्रिया की स्मृति में स्त्री लेखन के लिए दिए जाने वाले सम्मान के लिए इस वर्ष रांची की लेखिका रश्मि शर्मा का चयन किया गया है। इस सम्मान में 15,000 रुपये की राशि और मानपत्र की व्यवस्था है। 1 दिसंबर 1994 को 48 वर्ष की उम्र …

Read More »

स्वयं प्रकाश स्मृति सम्मान के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित

दिल्ली 20 जून। साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में कार्यरत संस्थान ’स्वयं प्रकाश स्मृति न्यास’ ने सुप्रसिद्ध साहित्यकार स्वयं प्रकाश की स्मृति में दिए जाने वाले वार्षिक सम्मान के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित की हैं। न्यास के अध्यक्ष प्रो मोहन श्रोत्रिय ने बताया कि राष्ट्रीय स्तर के इस सम्मान में क्रमशः …

Read More »

नाटक कम्पनियों की कुम्भ यात्रा: गोपाल राम गहमरी(1927)

इन दिनों हरिद्वार में कुम्भ चल रहा है। पहले कुम्भ मेले में पारसी थिएटर कम्पनियाँ आती थीं, उनके नाटकों की धूम रहती थी। गोपाल राम गहमरी का यह लेख 1927 के कुम्भ मेले और नाटकों को लेकर है। यह दुर्लभ लेख उपलब्ध करवाया है राँची के संजय कृष्ण ने, जिन्होंने …

Read More »

राजकमल, पुरानी दिल्ली और दिल्ली पुलिस

कल 28 फ़रवरी से राजकमल प्रकाशन अपने 75 वें साल में प्रवेश कर जाएगा। अपने 74 वें स्थापना दिवस को इस बार राजकमल कुछ अनूठे अन्दाज़ में मना रहा है। सीधे पाठकों के बीच पहुँचने के अभियान के साथ। आप भी जानना चाहते हैं तो इसको पढ़ सकते हैं- ========================== …

Read More »

जमुना किनारे इकबाल फारूकी और अज़हर हाशमी  की शानदार जुगलबंदी

जामिया नगर में कैफ़े कारवाँ नामक एक कैफ़े की शुरुआत हुई है, जहाँ से यमुना का नज़ारा दिखाई देता है। एक कैफ़े में लाइब्रेरी भी है और यहाँ कला के आयोजन भी करने की योजना है। 21 फ़रवरी को कैफ़े कारवाँ ने कारवाँ-ए-अदब का आयोजन किया, जो जिमिशा कम्युनिकेशन के …

Read More »

हिंदी प्रकाशन जगत में एक नई पहल!

एक स्वागतयोग्य खबर- ============== हिंदी के दो अत्यंत प्रतिष्ठित प्रकाशनों–लोकभारती प्रकाशन (इलाहाबाद) और राधाकृष्ण प्रकाशन (नई दिल्ली)–ने बदले समय के अनुरूप अपनी तैयारी शुरू कर दी है। हाल ही में इन दोनों विशिष्ट प्रकाशनों ने पेशेवराना रूख अपनाते हुए महत्त्वपूर्ण नियुक्तियाँ की हैं जो कि हिंदी में एक नई शुरुआत …

Read More »

कलिंगा लिटेरेरी फ़ेस्टिवल का भाव संवाद: आगामी चर्चाएँ

कलिंगा लिटेरेरी फ़ेस्टिवल का भाव संवाद इस लॉकडाउन के दौरान बहुत सक्रिय रहा और उसने ऑनलाइन बौद्धिक चर्चाओं का एक अलग ही स्तम्भ खड़ा किया है। आगामी चर्चाओं के बारे में पढ़िए- =================== केएलएफ भाव संवाद बनेगा रेबेलियस लॉर्ड, ‘महाभारत सीरीज, बिकाउज इंडिया कम्स फर्स्ट, ‘द अवस्थीस ऑफ अम्नागिरी, रेबेल्स …

Read More »

हंस प्रकाशन राजकमल प्रकाशन परिवार का हिस्सा बना

प्रेमचंद के पुत्र अमृत राय द्वारा 1948 में स्थापित हंस प्रकाशन आज से राजकमल प्रकाशन समूह का हिस्सा हो गया है। प्रेमचंद की जयंती के दिन की यह उल्लेखनीय घटना है। हंस प्रकाशन का ऐतिहासिक महत्व रहा है और इसकी अपनी समृद्ध विरासत है। आशा है अब हम नए सिरे …

Read More »