Home / Prabhat Ranjan (page 213)

Prabhat Ranjan

सरस्वती मिनरल वॉटर प्राईवेट लिमिटेड

मूलतः कवि गिरिराज किराड़ू अपने प्रयोगधर्मी गद्य के लिए भी पहचाने जाते हैं. पिछले दिनों उनकी कुछ कहानियों ने अपने शिल्प, अपनी किस्सागोई से प्रभावित किया. नॉन–फिक्शन में भी उन्होंने खासे प्रयोग किये हैं. काफी गंभीर बात खिलंदड़े अंदाज़ में कह जाना उनकी शैली की एक विशेषता है. प्रस्तुत है …

Read More »

नेमिचंद्र जैन स्मरण

आज कवि–आलोचक–नाट्य–विशेषज्ञ नेमिचंद्र जैन की ९१वीं जयन्ती है. तार सप्तक के इस कवि ने साहित्य की अनेक विधाओं में सिद्धहस्तता से लेखन किया, नाट्यालोचन की संभावनाओं का विस्तार किया. लेकिन किसी तरह की होड़ की पंक्तिबद्धता में वे नहीं पड़े, उन्होंने विनम्रता की करबद्धता को अपनाया, वे मूलतः कवि थे …

Read More »

बेशर्म समय की शर्म

बीते ९ अगस्त को मनोहर श्याम जोशीजी का जन्मदिन था इसलिए उनकी ही एक बात हाल की घटनाओं के सन्दर्भ में विशेष तौर पर याद आ रही है. अपनी मृत्यु से कुछ दिन पहले बीबीसी को दिए एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा था हम ऐसे बेशर्म समय में रह रहे …

Read More »

मैं दीवार के साथ खड़ा नहीं हो सकता

हारुकी मुराकामी प्रमुख समकालीन उत्तर-आधुनिक उपन्यासकारों में गिने जाते हैं. वाइल्ड शिप चेज़, काफ्का ऑन द शोर जैसे चर्चित उपन्यासों के इस जापानी लेखक के एक भाषण का अनुवाद प्रसिद्ध लेखक-पत्रकार प्रियदर्शन ने किया है. एक ज़माने में सलमान रुश्दी के प्रसिद्ध उपन्यास मिडनाइट्स चिल्ड्रेन के अनुवाद से चर्चा में …

Read More »

वी एन राय और रवीन्द्र कालिया को बर्ख़ास्त किया जाये

जल्दी ही राष्ट्रपति महोदया से समय लेने का प्रयास किया जा रहा है. मुख्यतः लेखिकाओं का एक प्रतिनिधिमंडल उनसे मिलकर लेखक समाज की व्यथा रखेगा और हम लेखकों की ओर से ज्ञापन उनको सौंपेगा. आप लोगों ने जिस तरह से सहयोग दिया है उसके लिए हम आभार व्यक्त करते हैं. …

Read More »

हिंदी अनुवाद में अमिताव घोष का उपन्यास ‘सी ऑफ पॉपीज़’

हिंदी में अमिताव घोष का सी ऑफ पॉपीज़ अफीम सागर के नाम से प्रकाशित हुआ है. ध्यान रहे कि इस उपन्यास की कथा का क्षेत्र पूर्वी भारत है. कहानी उस दौर की है जब वहाँ से लोगों को गिरमिटिया बनाकर मॉरिसस और कैरेबियाई देशों में भेजा जा रहा था. हिंदी …

Read More »

नक्श लायलपुरी की गज़लें

मैं दुनिया की हक़ीकत जानता हूँकिसे मिलती है शोहरत जानता हूँ मेरी पहचान है शेरो सुख़न सेमैं अपनी कद्रो-क़ीमत जानता हूँ तेरी यादें हैं, शब बेदारियाँ हैंहै आँखों को शिकायत जानता हूं मैं रुसवा हो गया हूँ शहर-भर मेंमगर ! किसकी बदौलत जानता हूँ ग़ज़ल फ़ूलों-सी, दिल सेहराओं जैसामैं अहले …

Read More »

२५ बरस का हंस

मदन मोहन झा सर एक दिन घर के अन्दरवाले कमरे से एक पत्रिका निकाल कर लाए. देते हुए कहा था, इसे पढ़ना साहित्य के संस्कार आयेंगे. बात सन ८६ की है. उसी साल मैंने मैट्रिक की परीक्षा पास की थी. उसी की कहानियों को पढते हुए मैंने कथाकार बनने के …

Read More »

जिनका जीवन ही साहित्य था

२१ जुलाई को नोबेल पुरस्कार प्राप्त लेखक अर्नेस्ट हेमिंग्वे का जन्मदिन था. उस अवसर पर हमने उनकी एक छोटी सी कहानी छापी थी. आज प्रस्तुत है यह लेख जो उनके जीवन और लेखन को लेकर है- प्रभात रंजन नोबेल पुरस्कार प्राप्त अमेरिकी लेखक हेमिंग्वे की गिनती अंग्रेजी के महान लेखकों …

Read More »

आतंकवादी कौन बनता है

पिछले साल दिवंगत हुए जॉन उपडाइक की गणना आधुनिक अमेरिका के लिख्खाड़ और गंभीर लेखकों में की जाती रही है। २००६ में प्रकाशित टेररिस्ट(आतंकवादी) उनका बाइसवां और जीवनकाल में प्रकाशित संभवतया अंतिम उपन्यास है। उपन्यास में अमेरिकी समाज की बदलती मानसिकता झलकती है. नाइन-एलेवन की घटना के बाद अमेरिका और …

Read More »