Home / Prabhat Ranjan (page 20)

Prabhat Ranjan

कलिकथा: मंज़िल वाया बाइपास: यतीश कुमार

यतीश कुमार ने काव्यात्मक समीक्षा की अपनी विशेष शैली विकसित की और इस शैली में वे अनेक पुस्तकों की समीक्षाएँ लिख चुके हैं। इसी कड़ी में आज पढ़िए अलका सरावगी के उपन्यास ‘कलि कथा वाया बाइपास’(राजकमल प्रकाशन) की समीक्षा। 1990 के दशक के आख़िरी सालों में जिस उपन्यास ने बड़े पैमाने …

Read More »

फ़्रेंच लेखिका आमेली नोतों के उपन्यास ‘एक अधूरा उपन्यास’ का एक अंश

फ़्रेंच लेखिका आमेली नोतों के उपन्यास ‘hygiene and assassin’ का हिंदी अनुवाद प्रकाशित हुआ है ‘एक अधूरा उपन्यास’ शीर्षक से। राजपाल एंड संज से प्रकाशित यह उपन्यास पहले पंद्रह भाषाओं में प्रकाशित हो चुका है। उपन्यास की कहानी में एक नोबेल पुरस्कार विजेता लेखक प्रेतेक्सता ताश की मृत्यु होने वाली …

Read More »

कविता शुक्रवार: हरि मृदुल की कविताएँ

उत्तराखंड में नेपाल और चीन बॉर्डर के गांव बगोटी में ४ अक्टूबर, १९६९ को जन्मे हरि मृदुल की प्रारंभिक शिक्षा स्थानीय प्राइमरी स्कूल में ही हुई। इसके बाद वह बरेली चले गए, जहां उन्होंने स्नातकोत्तर तक शिक्षा पाई। बचपन से ही कविता लिखनी शुरू हो गई थी। कुमाऊं के अप्रतिम …

Read More »

पुतले का इतिहास और इतिहास का पुतला

प्रज्ञा मिश्रा का यह लेख अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों में चले रंगभेद विरोधी प्रदर्शनों को एक भिन्न नज़रिए से देखता है, इतिहास और इतिहास स्मारकों को एक अलग नज़रिए से। प्रज्ञा मिश्रा यू॰के॰ में रहती हैं और वहाँ ब्रिस्टल शहर में एडवर्ड कोलस्टन के पुतले को हटाया गया और …

Read More »

संतोष दीक्षित की कहानी ‘काल कथा’

संतोष दीक्षित की यह कहानी कोरोना काल के घटनाक्रम से बुनी एक रोचक कहनाई है। समय मिले तो पढ़िएगा- जानकीपुल                                                          (1) यह …

Read More »

नाटक कथा की प्रस्तुति प्रक्रिया: उथल पुथल की सृजनात्मकता

प्रवीण कुमार गुँजन राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के छात्र रहे हैं।अब बेगूसराय में थिएटर करते हैं। नाटक की तैयारी, प्रस्तुति को लेकर उन्होंने बड़ा रोचक लेख लिखा है-जानकी पुल ==================== चन्दन, कब नया नाटक होगा? अभिनेता खोजो, वह भी नया हो तो ज़्यादा अच्छा। कुछ पुराने लोग होंगे पर बहुमत में …

Read More »

लाल्टू का ‘खंडहर एक सफ़र’

लाल्टू हिंदी के जाने माने कवि  हैं, सामाजिक कार्यकर्ता हैं, अनुवादक हैं। इस बार उन्होंने गद्य में खंडहर का सफ़रनामा लिखा है। आप भी पढ़िए इस खंडहर होते समय में कुछ खंडहर यादें- जानकी पुल ============   खंडहर : एक सफर   1 ठंड की बारिश बन टपक रहा हूँ। …

Read More »

ईशान त्रिवेदी की कहानी ‘गुलाबी पेड़’

ईशान त्रिवेदी टीवी, फ़िल्मों की दुनिया के जाने पहचाने नाम हैं। आजकल उनकी लिखी वेबसीरिज़ सोनी पर दिखाई जा रही है ‘योर ऑनर’। वे अच्छे लेखक हैं। राजकमल प्रकाशन समूह से हाल में उनका उपन्यास प्रकाशित हुआ है ‘पीपलटोले के लौंडे’। उनकी कहानियाँ हम जानकी पुल पर पढ़ते रहे हैं। …

Read More »

प्रकृति करगेती की कहानी ‘चमगादड़’

युवा लेखिका प्रकृति करगेती की कहानियों से हम भली भाँति परिचित हैं। उनको ‘राजेंद्र यादव हंस कथा सम्मान भी प्राप्त हो चुका है।इस बार अरसे बाद स्मृति के सहारे एक अलग सा गल्पलोक रचती हुई आई हैं। यह प्रकृति करगेती की नई कहानी है–   =====================================       मैं …

Read More »

अविमुक्त क्षेत्र (काशी) के  मुक्त मेघों की प्रतीक्षा – भाग -1

प्रियंका नारायण बीएचयू की शोध छात्रा रही हैं। मिथकों पर अच्छा लिखती हैं। इस बार उन्होंने गल्प में मिथकीय काशी से वर्तमान काल के काशी की यात्रा की है। काशी की एक स्त्री छवि देखिए।यह उनकी पुस्तक ‘घन बरसे’ का एक अंश है- ============================= अविमुक्त क्षेत्र (काशी) के  मुक्त मेघों …

Read More »