Home News

News

स्त्री-सपनों की बेदखल होती दुनिया का जीवंत यथार्थ

गीताश्री के उपन्यास 'हसीनाबाद' की यह समीक्षा युवा कवयित्री-लेखिका स्मिता सिन्हा ने लिखी है. उपन्यास वाणी प्रकाशन से प्रकाशित है- मॉडरेटर ================ गीताश्री 'हसीनाबाद ' एक स्त्री...

चंद्रेश्वर के संग्रह ‘सामने से मेरे’ की कुछ कविताएँ

इस साल लखनऊ से रश्मि प्रकाशन की शुरुआत हुई. इससे वरिष्ठ कवि श्री चंद्रेश्वर का कविता संग्रह "सामने से मेरे" प्रकाशित हुआ है अौर...

गेब्रियला गुतीरेज वाय मुज की कविताएं दुष्यंत के अनुवाद

26 नवंबर यानी आज के दिन 1959 में जन्मीं चर्चित समकालीन स्पेनिश कवयित्री गेब्रियला गुतीरेज वायमुज ने स्पेनिश में पीएच. डी.  की है। वे सिएटल...

फिल्म समीक्षा

बिहार में राहत वितरण की तर्ज पर पुरस्कार वितरण

बिहार सरकार द्वारा जब भी साहित्यिक आयोजन होते हैं, पुरस्कार-सम्मान दिए जाते हैं तो उनको बदइन्तजामी, गुटबाजी, बंदरबांट के लिए ही याद किया जाता...

जुड़े रहें

0FansLike
80FollowersFollow
90FollowersFollow

समीक्षा

शायरी

राफ़िया फ़रहत की नज़्में

राफ़िया फ़रहत अफ़साना निगार हैं। शायरा हैं। ऑल इंडिया रेडियो बाड़मेर में अनाउंसर हैं। तजरबे की बारिश में भीगी हुई राफ़िया की नज़्में, पढ़ने...

नाटक

उन्नीसवां भारत रंग महोत्सव २०१७ : प्रथम चरण के नाटक

  भारत रंग महोत्सव के नाटकों का दिल्ली के दर्शकों को बेहद इन्तजार रहता है. इसके पहले दो दिनों के नाटकों पर जानी-मानी रंग समीक्षक,...

कथा-कहानी

उपासना झा की कहानी ‘अब जब भी आओगे’

पिछले कुछ समय में उपासना झा की कविताओं, कहानियों ने हिंदी के पाठकों, लेखकों, आलोचकों सभी को समान रूप से आकर्षित किया है. आज...

अथ ‘ब्रह्मोद्य’ प्रश्नोत्तरी उपाख्यान: मृणाल पाण्डे की कथा श्रृंखला का उपसंहार                                         

जानी-मानी लेखिका मृणाल पाण्डे की कथा श्रृंखला हम पढ़ रहे थे. संस्कृत कथाओं की याद दिलाती हुई इस कथा में हीरामन तोता भी था,...

तंजानियाई लेखक मोल्लेल की कहानी ‘एक शब आवारगी’

तंजानिया के लेखक टोलोलवा मारटी मोल्लेल की कहानी। तंज़ानियाई लेखक मोल्लेल का जन्म 1952 में अरुशा शहर में हुआ। उन्होंने 1972 में यूनिवर्सिटी ऑफ...

पुस्तक अंश

कृष्णा सोबती के उपन्यास ‘गुजरात पाकिस्तना से गुजरात हिन्दुस्तान’ से एक अंश

हिंदी की वरिष्ठ लेखिका कृष्णा सोबती का आत्मकथात्मक उपन्यास आया है 'गुजरात पाकिस्तान से गुजरात हिन्दुस्तान'. पुस्तक का प्रकाशन राजकमल प्रकाशन से हुआ है....

मैं भूखा हूँ, रोज़ादार नहीं हूँ

रमज़ान का महीना शुरू हो गया है। मुझे याद आता है रहमान अब्बास का उर्दू नॉवेल (ख़ुदा के साए में आँख मिचोली), जिसमें एक...

‘पतनशील पत्नियों के नोट्स’ और होली का त्यौहार

पिछले दिनों वाणी प्रकाशन से एक किताब आई 'पतनशील पत्नियों के नोट्स'. नीलिमा चौहान की इस किताब ने जैसे हिंदी साहित्य की तथाकथित मर्यादा...

नज़्म

युवा शायर #23 वर्षा गोरछिया की नज़्में

युवा शायर सीरीज में आज पेश है वर्षा गोरछिया की नज़्में - त्रिपुरारि ====================================================== नज़्म-1 तुम आओ एक रात कि पहन लूँ तुम्हें अपने तन पर लिबास...