Home News

News

उपासना झा की कहानी ‘सारा आकाश’

इधर युवा लेखिका उपासना झा की रचनाओं ने सबका ध्यान आकर्षित किया है. विषय, भाषा, संतुलन, भाषा का संयम. उनकी रचनाओं को पढ़ते हुए...

पंखुरी सिन्हा की कुछ कविताएँ

पंखुरी सिन्हा की कुछ कविताएँ और उनके ऊपर राकेश धर द्विवेदी की टिप्पणी- मॉडरेटर ============================================ पुश्तैनी संपत्ति का हिसाब इतना राजनैतिक हो रहा था मूल्यों के ह्रास पर...

अरुण शीतांश की कविताएँ

आज प्रस्तुत है कवि अरुण शीतांश की कविताएं। 2 नवम्बर 1972 के दिन अरवल जिले के विष्णुपुरा गाँव में जन्मे अरुण शीतांश ने भूगोल...

फिल्म समीक्षा

जगरनॉट बुक्स ने लांच किया स्मार्टफोन के लिए हिंदी किताबों का...

दुनिया जिनकी मुट्ठी में होती है किताबें उनकी जेब में होंगी- किताबों के नए ऐप के बारे में यही कहा जा सकता है. प्रिंट में...

जुड़े रहें

0FansLike
81FollowersFollow
91FollowersFollow

समीक्षा

शायरी

युवा शायर #9 विकास शर्मा ‘राज़’ की ग़ज़लें

युवा शायर सीरीज में आज पेश है विकास शर्मा ‘राज़’ की ग़ज़लें – त्रिपुरारि ==================================================== ग़ज़ल-1 चल रहे थे नज़र जमाये हम मुड़ के देखा तो लड़खड़ाये हम खोलता...

नाटक

उन्नीसवां भारत रंग महोत्सव २०१७ : प्रथम चरण के नाटक

  भारत रंग महोत्सव के नाटकों का दिल्ली के दर्शकों को बेहद इन्तजार रहता है. इसके पहले दो दिनों के नाटकों पर जानी-मानी रंग समीक्षक,...

कथा-कहानी

टू डेल्ही विद लव- ये नाम है कहानी प्रतियोगिता का

टू डेल्ही विद लव- ये नाम है कहानी प्रतियोगिता का. SIM पब्लिकेशन्स द्वारा इस प्रतियोगिता की घोषणा की गई है. यह एक अंतरराष्ट्रीय प्रकाशन...

शेषनाथ पांडेय की कहानी ‘तारीख़’

हिंदी के कई लेखक ऐसे हैं, जो कविता और कहानी दोनों विधाओं में समान अधिकार के साथ लिखते हैं। उनमें एक नाम शेषनाथ पांडेय...

हृषीकेश सुलभ की कहानी ‘वधस्थल से छलांग’

हृषीकेश सुलभ हिंदी की वरिष्ठ पीढ़ी के सबसे प्रासंगिक लेखकों में है. मेरी नजर में बड़ा लेखक वह नहीं होता जो अपने समय में दो-चार...

पुस्तक अंश

मैं भूखा हूँ, रोज़ादार नहीं हूँ

रमज़ान का महीना शुरू हो गया है। मुझे याद आता है रहमान अब्बास का उर्दू नॉवेल (ख़ुदा के साए में आँख मिचोली), जिसमें एक...

महापंडित राहुल और वोल्गा की रात

आज महापंडित राहुल सांकृत्यायन की 54 वीं पुण्यतिथि है. हिंदी में उनके जितना विविध और विपुल लेखन शायद ही किसी और लेखक ने किया....

‘द मिनिस्ट्री ऑफ़ अटमोस्ट हैप्पीनेस’ के एक अंश का हिंदी अनुवाद

बीस साल बाद अरुंधति राय का दूसरा उपन्यास आया है ‘द मिनिस्ट्री ऑफ़ अटमोस्ट हैप्पीनेस’. मैंने इसके एक अंश का अनुवाद किया है जो...

नज़्म

युवा शायर #23 वर्षा गोरछिया की नज़्में

युवा शायर सीरीज में आज पेश है वर्षा गोरछिया की नज़्में - त्रिपुरारि ====================================================== नज़्म-1 तुम आओ एक रात कि पहन लूँ तुम्हें अपने तन पर लिबास...