Recent Posts

नालायक बनने में ही आदमी का बचाव है

आज कुछ कविताएँ रामजी तिवारी की. समय-समाज की कुछ सच्चाइयों के रूबरू उनकी कविताएँ हमें हमारा बदलता चेहरा दिखाती हैं- जानकी पुल. ================================         1….   मुखौटे मुखौटे तब मेले में बिकते, राक्षसों और जानवरों के अधिकतर होते जो भारी, उबड़ खाबड़ और बहुत कम देर टिकते| पहनते …

Read More »

कविता कोश, दिनकर और अफजल गुरु

आशुतोष कुमार का यह लेख आंखें खोल देने वाला है- जानकी पुल. =========================================== सौ बार दुहराने से झूठ सच हो जाता है , गोएबल्स का यह सिद्धांत साम्प्रदायिक दक्षिणपंथी सोच की जीवनधारा है. सामने दिख रहे सच को झुठलाने के लिए पहले अपने अतीत को झुठलाना जरूरी है , वे जानते …

Read More »

अपर्णा मनोज की कहानी ‘सारंगा तेरी याद में’

अपर्णा मनोज ने कम कहानियां लिखकर कथा-जगत में अपना एक अलग भूगोल रचा है. अछूते कथा-प्रसंग, भाषा की काव्यात्मकता, शिल्प के निरंतर प्रयोग उनकी कहानियों को विशिष्ट बनाते हैं. जीवन के अमूर्तन को स्वर देने की एक कोशिश करती उनकी एक नई कहानी- जानकी पुल.  ============================================= सारंगा तेरी याद में:: …

Read More »