Recent Posts

लेखक का एकांत मृत्यु का एकांत होता है

उदय प्रकाश का उपन्यास ‘पीली छतरी वाली लड़की’ पुराना है, लेकिन सुशीला पुरी ने उसके ऊपर बेहद आत्मीय ढंग से, नए कोण से लिखा है. सोचा साझा किया जाए- जानकी पुल. ==================================================  उदय प्रकाश जैसे विरल,विराट,विपुल,वैविध्य वाले रचनाकार पर कुछ लिख पाने की मेरी सामर्थ्य नहीं। मैं एक अदना सी …

Read More »

पत्रकारिता की शिक्षा गैर-पत्रकार कैसे देते हैं?

कल ‘जनसत्ता’ संपादक ओम थानवी ने प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मार्कण्डेय काटजू के इस कथन के बहाने कि मीडिया में आने के लिए न्यूनतम योग्यता तय होनी चाहिए, मीडिया शिक्षा पर वाजिब सवाल उठाये हैं. ओम थानवी का यह लेख अपने अकाट्य तर्कों के साथ बेहब वाजिब सवाल उठाता है …

Read More »

‘उम्र से लंबी सड़कों पर’ गुलजार

गुलजार के गीतों पर केंद्रित विनोद खेतान की पुस्तक आई है ‘उम्र से लंबी सड़कों पर’. इस पुस्तक के बहाने गुलजार के गीतों पर प्रियदर्शन का एक सधा हुआ लेख- जानकी पुल. =============================================  क्या फिल्मी गीतों को हम कविता या कला की श्रेणी में रख सकते हैं? प्रचलित तर्क कहता है …

Read More »