Recent Posts

खेल के चश्मे से कारोबारी दुनिया की समझ

हर्षा भोगले का नाम क्रिकेट प्रेमियों के लिए एक जादुई क्रिकेट कमेंटेटर हैं. उनकी किताब आई है ‘जीतने के रास्ते’. खेल और प्रबंधन से जुड़े अपने अनुभवों के आधार पर एक व्यवहारिक और प्रेरणादायी पुस्तक. इसकी समीक्षा लिखी है त्रिपुरारि कुमार शर्मा ने. आपके लिए- जानकी पुल. ============================================ मशहूर दार्शनिक …

Read More »

कला और विज्ञान के संधि स्थल पर खड़ा युगपुरुष स्टीव जॉब्स

आज ‘इण्डिया टुडे’ में ‘मैं, स्टीव: मेरा जीवन, मेरी जुबानी’ पुस्तक की मेरे द्वारा लिखी गई समीक्षा प्रकाशित हुई है. आप उसे चाहें तो यहाँ भी पढ़ सकते हैं. उनका व्यक्तित्व मुझे बहुत प्रेरणादायी लगता रहा है. फिलहाल पुस्तक की समीक्षा- प्रभात रंजन  ===================================== स्टीव जॉब्स के बारे में कहा …

Read More »

निलय उपाध्याय की कहानी ‘खटमल’

निलय उपाध्याय को हम सब एक बेहतरीन कवि के रूप में जानते हैं, लेकिन वे एक शानदार गद्यकार हैं. औपन्यासिक संवेदना के लेखक, जिनके पास अनुभव की अकूत सम्पदा है. आज उनकी एक ताजा कहानी आपके लिए- जानकी पुल. ================================= सुबह सुबह मनबोध बाबू को लगा जैसे उनकी देह पर …

Read More »