Recent Posts

बहुत से भारतीय भाषाओं के लेखक भारतीय अंग्रेजी लेखकों से भी ज्यादा पहचाने जाते हैं

 अर्शिया सत्तार भारत और अंतरराष्ट्रीय लेखकों के लिए स्थापित संगम हाउस रेजीडेंसी के संस्थापकों में से एक हैं। यूनिवर्सिटी आव शिकागो से इंडियन क्लासिकल लिट्रेचर में पीएच.डी. अर्शिया का संस्कृत की कथासरित्सागर और वाल्मिकी रामायण का अनुवाद पेंग्विन बुक्स से प्रकाशित हो चुका है। बच्चों के लिए दो किताबें लिखने के …

Read More »

मुझे अपने कवि होने में संदेह है

हिंदी के प्रसिद्ध कवि अरुण कमल से कवयित्री आभा बोधिसत्व की बातचीत- जानकी पुल. ===========================================================  आप खुद की कविता और कवि से कितने संतुष्ट हैं? संतोष से रहता हूँ। कवि हूँ भी या नहीं, कह नहीं सकता। ककहरा जानता हूँ। अक्षरों को जोड़-जोड़कर कुछ बना लेता हूं। मैं दिल से कह …

Read More »

मनीषा कुलश्रेष्ठ की कहानी ‘खर पतवार’

मनीषा कुलश्रेष्ठ किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं. हमारे दौर की इस प्रमुख लेखिका का हाल में ही कथा-संग्रह आया है- ‘गन्धर्व-गाथा’. प्रस्तुत है उसी संग्रह से एक कहानी लेखिका के वक्तव्य के साथ- जानकी पुल. x==============x==================x==============x==============x भूमिका कॉलेज के दिनों में मेरे पास एक टी – शर्ट हुआ करती …

Read More »